त्रिपुरा सरकार में दरार, CM बिप्लब देब ने दी चेतावनी

Daily news network Posted: 2018-05-16 18:09:55 IST Updated: 2018-05-24 10:44:07 IST
  • त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब देब ने गठबंधन सहयोगी आईपीएफटी को सरकार से बाहर करने की चेतावनी दी है।

अगरतला।

त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब देब ने गठबंधन सहयोगी आईपीएफटी को सरकार से बाहर करने की चेतावनी दी है। दरअसल, सरकार में शामिल भारतीय जनता पार्टी और इंडिजीनस पीपुल्स आॅफ त्रिपुरा के कार्यकर्ताओं के बीच पिछले तीन हफ्तों से झड़प चल रही है। हाल ही में ढलाई जिले में लोंगतराई घाटी स्थित चाउमानु में हुई झड़प में दोनों पक्षों के 23 लोग घायल हो गए थे।


 


सूत्रों के मुताबिक देब ने आईपीएफटी प्रमुख और राजस्व मंत्री एनसी देबबर्मा से राज्य में हिंसा और प्रदर्शन बंद करने और स्थिति सामान्य करने को कहा है। ऐसा न करने पर देब ने उन्हें सरकार से बाहर करने की चेतावनी दी है। आईपीएफटी कार्यकर्ताओं ने सोमवार को चंपाहोवर पुलिस स्टेशन पर हमला कर दिया था। इसके अलावा लेफुंगा, किल्ला, कारबोक, कंधाचेरा, हेजामारा जैसी कई जगहों पर रोड जाम कर दिया था। देब ने पुलिस को भी स्थिति नियंत्रित करने के निर्देश दिए हैं।

 

 


 झड़प के बाद मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब ने दोनों पार्टियों के नेताआें के साथ राज्य के गेस्ट हाउस में आपातकालीन बैठक की। देब ने दोनों पार्टियों के नेताअों से किसी भी तरह के संघर्ष को रोकने के लिए तत्काल कदम उठाने के सख्त आदेश दिए है। उन्होंने कहा कि अगर आगे एेसे किसी भी प्रकार का संघर्ष होता है तो आरोपी के साथ-साथ ही उस पार्टी से जुड़े नेता के खिलाफ कार्यवार्इ की जाएगी।

  

 


 इसके अलावा मुख्यमंत्री देब ने पार्टी कार्यकर्ताआें के बीच के विवाद को हल करने के लिए उप-मुख्यमंत्री जिष्णु कुमार वर्मा से पांच सदस्यीय सामिति का गठन करने को कहा है। इसके साथ ही उन्होंने आदेश दिए है कि समिति में दो भाजपा के महासचिव प्रतिमा भौमिक आैर राजीब भट्टाचार्यजी के साथ आर्इपीएफटी के एनसी देबबर्मा आैर महासचिव मेवार कुमार जमतिया भी शामिल होंगे। ये समिति दोनों पार्टी के नेताआें के साथ अगले सप्ताह बैठक करेगी।