चीन कराएगा कृत्रिम बारिश, भारत में अा सकती है बाढ़

Daily news network Posted: 2018-04-07 12:26:08 IST Updated: 2018-06-26 12:41:05 IST
चीन कराएगा कृत्रिम बारिश, भारत में अा सकती है बाढ़
  • चीन के दक्षिणी इलाके में लंबे समय से अकाल पड़ रहा है। वहां रोजमर्रा के काम के साथ खेती बाड़ी के लिए भी पानी की किल्लत है।

नई दिल्ली।

चीन के दक्षिणी इलाके में लंबे समय से अकाल पड़ रहा है। वहां रोजमर्रा के काम के साथ खेती बाड़ी के लिए भी पानी की किल्लत है। चीन के वैज्ञानिकों ने सरकार को सुझाव दिया है कि अगर तिब्बत के पठार में मॉनसून के बादलों को बरसा दिया जाए तो वहां से दक्षिणी चीन की नदियों में पानी बढ़ जाएगा। इसके बाद चीन की सरकार ने अपनी सैन्य कंपनी चाइना एयरोस्पेस साइंड एंड टेक्नॉलजी कॉर्पोरेशन को इस मिशन का जिम्मा सौंपा है। 

 


यह कंपनी तिब्बत के पठार में ऐसी मशीनें लगा रही है जो सिल्वर आयोडिन की मदद से इस काम को मुमकिन बना सकेंगी। कंपनी अभी तक 500 मशीनें वहां लगा चुकी है। चीन की इस कोशिश से पड़ोसी देशों खासतौर पर भारत में आशंका उत्पन्न हो रही है कि कहीं इससे भारत के मॉनसून पर तो असर नहीं पड़ेगा या फिर कहीं ज्यादा बारिश होने से तिब्बत से भारत आने वाली नदियों में बाढ़ तो नहीं आ जाएगी। चीनी वैज्ञानिकों का इरादा तिब्बत के करीब 6 लाख 20 हजार वर्ग मील क्षेत्र में कृत्रिम तरीके से बारिश कराने का है। 

 


भारतीय वैज्ञानिक चीन की इस कोशिश को फिजूल की कवायद बता रहे हैं। भारत में मॉनसून की भविष्यवाणी करने वाले वैज्ञानिक डॉ.डी.शिवानंद पई का कहना है कि कृत्रिम रूप से बारिश कराने के प्रयास बहुत कारगर नहीं होते हैं। इनका सक्सेस रेट बहुत कम है। इसके लिए बादलों में पर्याप्त नमीं होना जरूरी है और यह बहुत महंगा पड़ता है। जेएनयू के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ शतेन्द्र शर्मा की भी यही राय है।



वह बताते हैं कि न तो इससे भारत में मॉनसून की बारिश पर कोई असर पड़ेगा और न ही चीन को खास कामयाबी मिल पाएगी। डॉ पई के मुताबिक भारत में मॉनसून के बादल अरब सागर, हिंद महासागर और बंगाल की खाड़ी से पैदा होते हैं और यह हिमालय से टकराकर भारत में बरसते हैं। तिब्बत में बंगाल की खाड़ी से बादल पहुंचते हैं और ऑस्ट्रेलिया से भी मॉनसूनी बादल वहां पहुंचते हैं। 



ऐसे में यह नहीं कहा जा सकता है कि इससे भारत को कोई नुकसान होगा। दोनों वैज्ञानिकों का कहना है कि इस बात की आशंका कम है कि तिब्बत में ज्यादा बारिश होने से भारत में बाढ़ का खतरा पैदा हो सकता है। उनका कहना है कि चीन के इस प्रयास की सफलता संदिग्ध है। आपको बता दें कि तिब्बत के पठार से ब्रह्मपुत्र,सतलुज और सिंधु नदियां निकलती हैं, जो भारत में आती है।