यह है भारत का सबसे बड़ा परिवहन विमान, अरुणाचल में की थी लैंडिंग... जानिए खूबियां

Daily news network Posted: 2018-04-11 16:14:24 IST Updated: 2018-04-11 17:20:17 IST
यह है भारत का सबसे बड़ा परिवहन विमान, अरुणाचल में की थी लैंडिंग... जानिए खूबियां
  • चीन को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए भारत ने ऐसा मास्टर स्ट्रोक खेला है जिसे देखकर दुश्मन के होश उड़ गए जी हां भारतीय वायु सेना का सबसे बड़ा परिवहन विमान

ईटानगर

चीन को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए भारत ने ऐसा मास्टर स्ट्रोक खेला है जिसे देखकर दुश्मन के होश उड़ गए हैं, जी हां भारतीय वायु सेना का सबसे बड़ा परिवहन विमान C-17 ग्लोबमास्टर ने अरुणाचल प्रदेश के टूटिंग एडवांस्ड लैंडिंग ग्राउंड पर मंगलवार को ऐतिहासिक लैंडिग की।

 

 


बताया जाता है कि यह लैंडिंग ग्राउंड चीनी सीमा के नजदीक है जो महज 30 किमी दूर है। भारतीय वायु सेना की इस लैंडिंग को अपने सैन्य संचालन सैन्य संचालन की दृष्टि से रणनीतिक रुप से महत्वपूर्ण बताया जा रहा है।

 

 

 विशालकाय परिवहन विमान C-17  की लैंडिग के बाद एक परिचालन मिशन शुरु किया। भारतीय वायुसेना के एक प्रवक्ता ने बताया कि, "मिशन को उत्कृष्ट प्रदर्शन और पायलटों के उत्कृष्ट उड़ान कौशल के लिए शुरु किया गया था।" भारतीय वायुसेना के इस परिवहन विमान को देखकर चीन के होश उड़ना तो लाज़मी है तो चलिए बताते हैं आपको भारत की शक्ति C-17 विमान के बारे कुछ महत्वपूर्ण बातें..

 

 

 परिवहन विमान C-17 ग्लोबमास्टर


परिवहन विमान C-17 एक अमेरिकी निर्मित विमान है, जिसका नाम पिछली दो विमानों पिस्टन-इंजन वाले सैन्य कार्गो विमान (डगलस C -74 ग्लोबमास्टर) और (डगलस C -124 ग्लोबमास्टर II) के नाम पर रखा गया है। 1990 के दशक के बाद से यह दुनिया भर में सैन्य ऑपरेशन में कार्गो वितरित कर चुका है। इसे लॉकहीड C -141 स्टारलिफ्टर की जगह लेने के लिए और लॉकहीड C -5 गैलेक्सी कुछ कर्तव्यों को पूरा करने के लिए डिजाइन किया गया था।


 

 सैन्य अभियान के लिए होता है इस्तेमाल


यह आमतौर पर सैन्य अभियान के लिए इस्तेमाल में लाया जाता है साथ ही दुनिया भर में सैनिकों और कार्गो के परिवहन करने के लिए प्रयोग किया जाता है। अतिरिक्त भूमिकाओं में अलग-अलग स्थानों पर चिकित्सा सेवा उपलब्ध कराना भी शामिल है। वे विभिन्न इलाकों में संचालित होते हैं। उत्तर भारत में हिमालयीन सैन्य ठिकानों से दक्षिण भारत में भारतीय महासागर के एयरबेस तक संचालित होते हैं। C -17 की अधिकतम पेलोड 170,900 पाउंड (77,500 किग्रा) है, और इसकी अधिकतम टेकऑफ़ वजन 585,000 पाउंड (265,000 किलो) है।

 


भारतीय वायु सेना के साथ C -17 का इतिहास


जून 2009 में पहली बार भारतीय वायुसेना ने कई विमानों को बदलने के लिए C -17 को अपनी भारी लिफ्ट परिवहन विमान की आवश्यकता के लिए चुना। 2010 में, यह सफलतापूर्वक परीक्षणों को पूरा करने के लिए USAF C-17 को गग्गल हवाई अड्डे पर लैंडिंग किया। 2013 में C -17 को आधिकारिक तौर पर भारतीय वायु सेवा में रखा गया था।

 

 विशालकाय विमान देख उड़ जाते हैं दुश्मन के होश


C -17 174 फीट लंबा है और इसमें लगभग 170 फीट लंबे (52 मीटर) विंग (पंखे) हैं। हाल ही के वर्षों में जरुरत के अनुसार इसके आकार में भी बढ़ोतरी की गई है। परिवहन कार्गो विमानों को इस पर लोड करवाने के लिए इसके फर्श में रोलर्स लगे हैं। इसका डिब्बा 88 फीट (27 मी) लंबा 18 फीट (5.5 मीटर) चौड़ा और 12 फीट 4 इंच (3.76 मीटर) ऊंचा है।

 


 

 C -17 के अन्य संस्करण क्या हैं?


C -17 A प्रारंभिक सैन्य विमान का संस्करण था। सेंटर विंग टैंक को बढ़ाकर इसे C -17 A "ईआर" के साथ विस्तारित रेंज के साथ आगे बढ़ाया गया था। C -17 B डबल स्लॉट फ्लैप के साथ एक अन्य हवाई जहाज संस्करण है।