पीएम मोदी को दिखाए काले झंडे, लगे गो बैक के नारे, जानिए क्यों

Daily news network Posted: 2019-02-09 09:45:41 IST Updated: 2019-02-10 08:49:55 IST
  • प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी शुक्रवार शाम गुवाहाटी पहुंचे। हवाई अड्डे से राजभवन जाने के दौरान ऑल असम स्टूडेंट यूनियन (आसू) के सदस्यों ने प्रधानमंत्री को काले झंडे दिखाए

गुवाहाटी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी शुक्रवार शाम गुवाहाटी पहुंचे। हवाई अड्डे से राजभवन जाने के दौरान ऑल असम स्टूडेंट यूनियन (आसू) के सदस्यों ने प्रधानमंत्री को काले झंडे दिखाए और नागरिकता (संशोधन) बिल के खिलाफ नारेबाजी की। मोदी पूर्वोत्तर के दो दिवसीय दौरे पर हैं।


 आसू के सदस्यों ने गुवाहाटी यूनिवर्सिटी के गेट पर प्रधानमंत्री को उस वक्त काले झंडे दिखाए जब वह लोकप्रिय गोपीनाथ बारदोलोई इंटरनेशनल एयरपोर्ट से शाम करीब साढ़े 6 बजे राजभवन की ओर जा रहे थे। आसू सदस्यों के एक अन्य समूह ने कुछ मिनट के बाद तेजी से जा रहे मोदी के काफिल को काले झंडे दिखाए। इस दौरान मोदी वापस जाओ, नागरिकता संशोधन विधेयक वापस लो जैसे नारे लगाए। शहीद न्यास के सामने जलती मशाल ले उमड़े आसू कार्यकर्ताओं ने सड़क जाम कर पीएम मोदी को काले झंडे लहराए।

 


 आसू और 70 सामाजिक संगटनों ने नागरिकता संशोधन विधेयक के विरोध में मोदी की यात्रा के दौरान उन्हें काले झंडे दिखाने और आंदोलन करने की घोषणा की थी। विवादास्पद विधेयक के खिलाफ प्रदर्शन की अगुवाई कर रहे कृषक मुक्ति संग्राम समिति(केएमएसएस) प्रमुख अखिल गोगोई ने कहा कि शनिवार को यहां मोदी के होने वाले दौरे को पूरे राज्य में काला दिवस के तौर पर मनाया जाएगा और 70 संगठनों के सदस्य उन्हें काले झंडे दिखाएंगे।

 


 गोगोई ने कहा, विधेयक बांग्लादेश से आए हिंदू बंगालियों को नागरिकता देने और 2019 के लोकसभा चुनाव में उनका वोट पाने के लिए लाया गया है। किसान नेता ने कहा कि भाजपा की देश में स्थिति ठीक नहीं है और उनकी रणनीति पश्चिम बंगाल और पूर्वोत्तर से अधिकतम सीटें जीतने की है। इसलिए भाजपा ने नागरिकता संशोधन विधेयक की राह चुनी। आसू के प्रमुख सलाहकार समुज्जल भट्टाचार्य ने बताया कि उनके संगठन ने शुक्रवार को राज्य के विभिन्न हिस्सों में मोदी के पुतले जलाए। लोकसभा में आठ जनवरी को नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 पारित किए जाने के बाद मोदी पहली बार असम के दौरे पर आ रहे हैं।