त्रिपुरा में भी जुमलों की सरकार, मोदी की राह पर बिप्लब देब?

Daily news network Posted: 2018-04-10 14:38:22 IST Updated: 2018-04-10 14:38:22 IST
त्रिपुरा में भी जुमलों की सरकार, मोदी की राह पर बिप्लब देब?
  • 2014 के लोकसभा चुनाव के वक्त नरेन्द्र मोदी ने सत्ता में आने पर हर साल 1 करोड़ युवाओं को नौकरी देने की बात कही थी।

अगरतला।

2014 के लोकसभा चुनाव के वक्त नरेन्द्र मोदी ने सत्ता में आने पर हर साल 1 करोड़ युवाओं को नौकरी देने की बात कही थी। मोदी सरकार को सत्ता में आए चार साल हो चुके हैं लेकिन वह अपने वादे पर खरी नहीं उतरी है। जब प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा अध्यक्ष को चुनाव के दौरान किए गए वादे के बारे में याद दिलाया जाता है तो वे नौकरी देने की बात को सिरे से ही नकार देते हैं। 




पीएम मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह कहते हैं कि हमने रोजगार देने का वादा किया था और मुद्रा योजना समेत अन्य सरकारी योजनाओं के माध्यम से हम युवाओं को रोजगार दे रहे हैं। त्रिपुरा की भाजपा सरकार भी इसी राह पर चल पड़ी है। राज्य में विधानसभा चुनाव के दौरान भाजपा ने सत्ता में आने पर राज्य के 7 लाख बेरोजगार युवाओं को नौकरी देने का वादा किया था लेकिन सत्ता में आते ही उसके सुर बदल गए हैं। राज्य के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब कह रहे हैं कि हमने राज्य के 7 लाख बेरोजगार युवाओं को सरकारी नौकरी देने का वादा किया ही नहीं था। 




प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के मौके पर राजधानी अगरतला में लोगों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री बिप्लब देब ने स्पष्ट किया कि भाजपा ने अपने विजन डॉक्टूमेंट में कभी यह वादा नहीं किया था कि वे राज्य के सभी बेरोजगार युवाओं को सरकारी नौकरी देंगे। मुख्यमंत्री ने कहा, हमारे विजन डॉक्यूमेंट में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि हम प्रत्येक परिवार में से एक को रोजगार का अवसर मुहैया कराएंगे लेकिन कभी यह वादा नहीं किया कि भाजपा सरकारी नौकरी देगी। हम नौकरी के अवसर पैदा करेंगे और कुशल कर्मी तैयार करेंगे जिससे आय के स्रोत पैदा होंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकारी नौकरियां कभी इनकम नहीं लाती और न ही उन्हें विकास का मापदंड माना जा सकता है, उल्टा उन्हें खर्चे के रूप में गिना जाता है।




 भारत ऐसा देश है जहां की 54 फीसदी आबादी 25 साल से कम उम्र की है। त्रिपुरा में 7 लाख बेरोजगार युवा हैं लेकिन चुनावों से पहले मैंने प्रत्येक को बताया था कि मेरे पास सरकारी नौकरी के लिए मत आना। सरकार कौशल प्रशिक्षण के जरिए आपके बेहतर भविष्य के लिए रास्ता बनाएगी। कुशल युवा ही विकास का मापदंड है और वे हमारे राज्य में ग्रो भी करेंगे। आपको बता दें कि त्रिपुरा की कुल आबादी करीब 37 लाख हैं। इनमें से 7 लाख बेरोजगार युवा हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि 2020 तक राज्य के 1 लाख 16 हजार युवाओं को प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के तहत प्रशिक्षण दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि रोजगार पैदा करने के लिए इन युवाओं को उस चीज की ट्रेनिंग दी जाएगी जिसकी इंडस्ट्री में मांग है।