बलात्कार के ज्यादातर मामलों शामिल होते हैं 'विशेष समुदाय' के लोग: भाजपा सांसद

Daily news network Posted: 2018-04-22 19:03:00 IST Updated: 2018-04-22 19:03:00 IST
बलात्कार के ज्यादातर मामलों शामिल होते हैं 'विशेष समुदाय' के लोग: भाजपा सांसद
  • बलात्कार के ज्यादातर मामलों विशेष समुदाय के लोग शामिल होते हैं। बलात्कारियों के लिए मौत से कम कोई सजा नहीं होनी चाहिए। उन्हें या तो फांसी दी जाए या फिर गोली मार दी जाए।

बलात्कार के ज्यादातर मामलों विशेष समुदाय के लोग शामिल होते हैं। बलात्कारियों के लिए मौत से कम कोई सजा नहीं होनी चाहिए। उन्हें या तो फांसी दी जाए या फिर गोली मार दी जाए।

 


 ये बातें भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की वरिष्ठ नेता व गुवाहाटी की सांसद विजया चक्रवर्ती ने कही। शनिवार को यहां असम प्रदेश भाजपा के मुख्यालय में पत्रकारों को संबोधित करते हुए विजया ने बलात्कार जैसी निंदनीय व नीच मामले पर भी राजनीति किए जाने को दुखद बताया है।


 उन्होंने कहा कि बलात्कार जैसे मामलों में लिप्त रहने वाले लोग तो विकृत मानसिकता वाले होते ही हैं, इस पर राजनीति करने वालों को भी अच्छा नहीं कहा जा सकता। उन्होंने कहा कि हमारे कानून में बलात्कार जैसे जघन्य अपराध के दोषियों के लिए रहम या माफी की गुंजाइश नहीं होनी चाहिए।

 


 उन्होंने कहा कि हाल के दिनों में राज्य की महिला व नाबालिग युवतियां बलात्कार की शिकार हुई हैं। सांसद विजया कहा कि मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल नेतृत्वाधीन राज्य सरकार बलात्कारियों को कठोर से कठोर सजा देने के लिए शीघ्र ही एक कानून बनाएगी। दूसरी ओर बांग्लादेशियों के मुद्दे पर सांसद विजया ने कहा कि हिंदू बांग्लादेशी बोझ है।

 


 सत्र महासभा एक हिंदुत्ववादी संगठन है। सत्र महासभा ने नागरिकता संसोधन के समय संसदीय कमेटी के पास जो विचार रखे है वे विचार सोच समझकर ही रखे होंगे। उन्होंने स्पष्ट किया कि 1971 के बाद असम आए हिंदू बांग्लादेशियों की संख्या 30 हजार से अधिक नहीं है। परंतु 30 लाख मुसलमान लोग बांग्लादेश वापस नहीं गए।

 


 न्यायधीश लोया की मौत के संदर्भ में सुप्रीम कोर्ट की और से भाजपा के राष्टीय अध्यक्ष अमित शाह कोके दोषमुक्त करार देने के संदर्भ में उन्होंने कहा कि न्यायधीश लोया की मृत्यु स्वभाविक थी। सुप्रीम कोर्ट ने 19 अप्रैल के फैसले से यह स्पष्ट हो चुका है। कांग्रेस पार्टी तथा राहुल गांधी कितने नीचे जा सको हैं, वह न्यायाधीश लोया के मामले से उजागर हो चुका है। अब राहुल गांधी को भाजपा के राष्टीय अध्यक्ष अमित के सामने माफी मांगनी चाहिए।