भाजपा के चाणक्य पर घोटाले का आरोप लगाकर बुरे फंसे तरुण गोगोई

Daily news network Posted: 2018-03-20 15:40:58 IST Updated: 2018-03-20 15:40:58 IST
भाजपा के चाणक्य पर घोटाले का आरोप लगाकर बुरे फंसे तरुण गोगोई
  • असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई ने भाजपा के वरिष्ठ नेता और राज्य के वित्त मंत्री हिमंता बिस्वा सरमा पर करोड़ों के घोटाले में शामिल होने का आरोप लगाया था।

गुवाहाटी।

असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई ने भाजपा के वरिष्ठ नेता और राज्य के वित्त मंत्री हिमंता बिस्वा सरमा पर करोड़ों के घोटाले में शामिल होने का आरोप लगाया था। नई दिल्ली में मीडियाकर्मियों को संबोधित करते हुए गोगोई ने खुलासा किया था कि जब राज्य में कांग्रेस की सरकार थी तब हिमंता बिस्वा सरमा करोड़ों रुपए के भ्रष्टाचार में शामिल थे।

 

 

 

 


आपको बता दें कि असम में विधानसभा चुनाव से पहले हिमंता बिस्वा सरमा कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए थे। उन्होंने नॉर्थईस्ट में भाजपा का चाणक्य कहा जाता है। भाजपा विधायक पी. हजारिका ने तरुण गोगोई के खिलाफ पुलिस थाने में एफआईआर दर्ज कराई है। यह एफआईआर गोगोई की ओर से उस बयान को लेकर कराई गई है जिसमें उन्होंने स्वीकार किया था कि कांग्रेस के शासकाल के दौरान हिमंता बिस्वा सरमा भ्रष्टाचार में शामिल थे और उस वक्त उन्होंने(गोगोई) ने आंखें मूंदें रखी।

 

 

 

 


जगीरोड विधायक हजारिका ने पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई पर क्रिमिनल ब्रीच ऑफ ट्रस्ट, सबूतों को नष्ट करने और आपराधिक साजिश का आरोप लगाते हुए गुवाहाटी के दिसपुर पुलिस थाने में एफआईआर दर्ज कराई है। तरुण गोगोई ने कहा था कि कांग्रेस के शासनकाल में करोड़ों के घोटाले करने वाले हिमंता बिस्वा सरमा को खुद उन्होंने बचाया था। पूर्व मुख्यमंत्री ने यह भी स्वीकार किया था कि सरमा से संबंधित घोटालों पर आंखें मूंदे रखने के लिए आंशिक रूप से वह भी जिम्मेदार हैं।

 

 

 

 


बकौल गोगोई,अकेले मैं था जिसने हिमंता को बचाया था। गोगोई ने यह भी खुलासा किया था कि तब के केन्द्रीय मंत्री पी.चिदंबरम ने हिमंता बिस्वा सरमा के खिलाफ शिकायत की थी। गोगोई के आरोपों पर हिमंता बिस्वा सरमा ने विधानसभा में कहा था कि तरुण गोगोई हिट एंड रन की पॉलिसी अपना रहे हैं। वह सदन के बाहर मीडिया को बयान देते हैं और जब जवाब सुनने की बारी आती है तो सदन से गायब हो जाते हैं। आपको बता दें कि 2018-19 के बजट पर चर्चा के दौरान गुरुवार को गोगोई सदन से गायब थे।

 

 

 

 

 


सरमा ने कहा था, गोगोई के बजट प्रस्तावों में कभी कुछ भी इनोवेटिव नहीं होता था। उनकी ज्यादातर घोषणाएं व योजनाएं कभी प्रैक्टिस में नहीं आई। तरुण गोगोई की वरिष्ठता को ध्यान में रखते हुए किसी ने उन्हें जवाबदेह नहीं ठहराया। कांग्रेस सरकार के कार्यकाल के दौरान बजट वर्क का 10 फीसदी भी काम नहीं हुआ। इस पर गोगोई ने कहा, अगर कांग्रेस सरकार के कार्यकाल के दौरान काम नहीं हुआ तो हिमंता बिस्वा सरमा ने भी काम नहीं किया होगा क्योंकि तब वह भी कांग्रेस के मंत्री थे।