Loksabha Election 2019-जल्द ही भाजपा अपने उम्मीदवारों के नामों का एेलान करेगी

Daily news network Posted: 2019-03-15 12:57:33 IST Updated: 2019-03-15 12:57:33 IST
Loksabha Election 2019-जल्द ही भाजपा अपने उम्मीदवारों के नामों का एेलान करेगी
  • मेघालय के शिलांग व तुरा संसदीय सीटों पर अकेले दम पर लोकसभा चुनाव लड़ने का मन बना चुकी भाजपा में उम्मीदवारों के नामों को लेकर अभी तक अंतिम निर्णय नहीं लिया गया है।भाजपा के महासचिव तथा पूर्वोत्तर प्रभारी राम माधव

शिलांग

मेघालय के शिलांग व तुरा संसदीय सीटों पर भाजपा अकेले दम पर लोकसभा चुनाव लड़ने का मन बना चुकी भाजपा में उम्मीदवारों के नामों को लेकर अभी तक अंतिम निर्णय नहीं लिया गया है। भाजपा के महासचिव तथा पूर्वोत्तर प्रभारी राम माधव, सांगठनिक महामंत्री रामलाल और महासचिव अजय जमवाल सहित अन्य शीर्ष नेता प्रदेश स्तर के नेताओं के साथ आत्म मंथन करने में लगे हैं। खबर है कि जल्द ही भाजपा अपने उम्मीदवारों के नामों का एेलान कर सकती है।

 

 

 शिलांग सीट से राज्य के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री एएल हेक और दक्षिण शिलांग से पार्टी विधायक सानबर शुलाई, प्रदेश अध्यक्ष शिबून लिंग्दोह, आर्नेस मारविन समेत अन्य के नाम दौड़ में शामिल हैं। हालांकि आवेदन सब ने नही की है। हेक व शुलाई का नाम दौड़ में सबसे आगे है। वहीं हेक ने कहा कि पार्टी जो जिम्मेदारी देगी उसे निभाएंगे लेकिन सच्चाई यह है कि उन्होंनें टिकट के लिए आवेदन नहीं किया है। हेक ने बताया कि तुरा सीट के लिए पार्टी की तुरा चुनाव समिति ने चार नामों की सुची पार्टी नेतृत्व के पास भेजा है।

 

 

 गौरतलब है कि 60 सदस्यीय राज्य विधानसभा में भाजपा के दो विधायक हैं। अकेले दम पर चुनाव लड़ने के फैसले से एमडीए गठबंधन प्रभावित होने की संभावना पर पुछे गए सवाल के जवाब में हेक ने कहा कि भाजपा राष्ट्रीय पार्टी होने के कारण चुनाव लड़ना पड़ता है और वह आशावादी है कि कोई मतभेद नहीं होगा। क्योंकि  एमडीए के पास एक साझा उम्मीदवार है। उन्होंने यह भी कहा कि सहयोगियों के पास चुनाव लड़ने का पूरा हक है। हर चुनाव कठिन होता किंतु विधानसभा और लोकसभा चुनाव भिन्न होता है।

 

 

विस चुनाव में स्थानीय एजेंडे के हिसाब से मतदाताओं का झुकाव क्षेत्रीय पार्टियों की तरफ होता है लेकिन लोकसभा में राष्ट्रीय पार्टी लोगों की पहली पसंद होती है। उन्होंने यह भी कहा कि नागरिकता (संशोधन) विधेयक के मुद्दे पर मेघालय में पार्टी के लिए कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा, क्योंकि यह राज्यसभा में बिल पारित नहीं होने के कारण विवाद खत्म हो गया है।