भाजपा सरकार देने जा रही है कर्मचारियों को बड़ा तोहफा

Daily news network Posted: 2018-03-12 15:15:44 IST Updated: 2018-03-12 15:15:44 IST
भाजपा सरकार देने जा रही है कर्मचारियों को बड़ा तोहफा
  • त्रिपुरा की भाजपा सरकार सरकारी कर्मचारियों को जल्द ही बड़ा तोहफा देने जा रही है। बिप्लब देब के नेतृत्व वाली सरकार ने राज्य के सरकारी कर्मचारियों को सातवें वेतन आयोग का लाभ देने के लिए पैनल का गठन किया है।

अगरतला।

त्रिपुरा की भाजपा सरकार सरकारी कर्मचारियों को जल्द ही बड़ा तोहफा देने जा रही है। बिप्लब देब के नेतृत्व वाली सरकार ने राज्य के सरकारी कर्मचारियों को सातवें वेतन आयोग का लाभ देने के लिए पैनल का गठन किया है। 


 

आपको बता दें कि त्रिपुरा के सरकारी कर्मचारियों को अभी तक सातवें वेतन आयोग का लाभ नहीं मिला है। भाजपा ने इस चुनावी मुद्दा बनाया था। भाजपा ने अपने विजन डॉक्यूमेंट में सरकारी कर्मचारियों को सातवें वेतन आयोग का लाभ दिलाने का वादा किया था। 


 

भाजपा सरकार ने राज्य कर्मचारियों के वेतन और भत्तों को सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों के अनुसार दिलाने के रास्ते निकालने के लिए शनिवार को उच्च स्तरीय विशेषज्ञ समिति गठित की। अगर प्रस्ताव लागू किए गए तो इससे 2.45 लाख कर्मचारी और पेंशनर्स लाभान्वित होंगे। 

 

शनिवार को मंत्रिमंडल की पहली बैठक हुई। इसकी अध्यक्षता मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब ने की। पर्यटन मंत्री प्राणजीत सिंघा रॉय ने कहा कि विशेषज्ञ समिति के सदस्यों के नामों की घोषणा जल्द की जाएगी। आपको बता दें कि रॉय कृषि व परिवहन मंत्री भी हैं। उन्होंने कहा कि नई त्रिपुरा विधानसभा का पहला सत्र 23 मार्च को होगा। वरिष्ठ भाजपा विधायक और पूर्व मंत्री रतन चक्रवर्ती 14 मार्च को प्रोटेम स्पीकर की शपथ लेंगे। वे 15 और 16 मार्च को नव निर्वाचित विधायकों को शपथ दिलाएंगे। 


 

शनिवार को कैबिनेट की मीटिंग में दो पत्रकारों शांतनु भौमिक और सुदीप दत्ता भौमिक की हत्या के मामलों को सीबीआई को सौंपने के लिए कानूनी पहलुओं के परीक्षण का फैसला किया है। आपको बता दें कि पत्रकारों के संगठन लंबे समय से मामलों की जांच सीबीआई को सौंपने की मांग कर रहे हैं। स्थानीय समाचार पत्र के पत्रकार सुदीप भौमिक की पश्चिम त्रिपुरा जिले के रामचंद्र नगर स्थित त्रिपुरा स्टेट राइफल्स सेकैंड बटालियान मुख्यालय में पिछले साल 21 नवंबर को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। 28 साल के टीवी पत्रकार शांतनु भौमिक की पिछले साल 20 सितंबर को हत्या कर दी गई थी। भौमिक राजधानी अगरतला से 25 किलोमीटर दूर मंडई में ट्राइबल बेस्ट पॉलिटिकल पार्टी के प्रदर्शन को कवर करने गए थे। 


पूर्ववर्ती लेफ्ट फ्रंट सरकार ने दोनों हत्याकांड की जांच के लिए अलग अलग एसआईटी गठित की थी। एक एसआईटी डीआईजी अरिंदम नाथ और दूसरी एसआईटी आईजी जी.एस.राव की अध्यक्षता में गठित की गई। नाथ की अध्यक्षता वाली एसआईटी ने चार टीएसआर कर्मियों समेत कुछ लोगों को गिरफ्तार किया है। इनमें टीएसआर सेकैंड बटालियन कमांडेंट तपन देबबर्मा भी शामिल है, जो सीनियर त्रिपुरा पुलिस सर्विस के अधिकारी हैं। 

 


भाजपा सरकार ने अपने चुनावी वादे के मुताबिक अगरतला एयरपोर्ट का नाम पूर्व महाराज बीर बिक्रम किशोर माणिक्य बहादुर(अगस्त 1908 मई 1947) के नाम पर करने का फैला किया है। 


 

मुख्यमंत्री ने सभी सरकारी विभागों में कार्य संस्कृति में सुधार के लिए अधिकारियों और स्टाफ को समय पर दफ्तर आने के लिए निर्देश दिया है।