भाजपा का 'विरोधीमुक्त भारत' का सपना पूरा नहीं होगा: येचुरी

Daily news network Posted: 2018-03-12 16:16:34 IST Updated: 2018-03-12 16:45:28 IST
भाजपा का 'विरोधीमुक्त भारत' का सपना पूरा नहीं होगा: येचुरी
  • मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के महासचिव सीताराम येचुरी ने सोमवार को कहा कि सभी विपक्षी पार्टियों को भाजपा के 'विरोधीमुक्त भारत (विपक्ष मुक्त भारत)' की साजिश को हराने के लिए एकसाथ आना होगा।

अगरतला।

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के महासचिव सीताराम येचुरी ने सोमवार को कहा कि सभी विपक्षी पार्टियों को भाजपा के 'विरोधीमुक्त भारत (विपक्ष मुक्त भारत)' की साजिश को हराने के लिए एकसाथ आना होगा।


 येचुरी ने यहां पत्रकारों से कहा, 'भाजपा ने 'विरोधीमुक्त भारत' का षड्यंत्र रचा है। यह कभी पूरा नहीं होगा। सभी विपक्षी धर्मनिरपेक्ष पार्टियां भाजपा की साजिश को मात देने के लिए संगठित हो रहीं हैं।'


 उन्होंने कहा कि इस बार विपक्षी गठबंधन 'नेता' के आधार पर नहीं, बल्कि नीति के आधार पर होगा।


 उन्होंने कहा, 'त्रिपुरा विधानसभा चुनाव में भाजपा की जीत के बाद, उसके कार्यकर्ताओं ने अपने वृहत्त विपक्ष मुक्त भारत अभियान के अंतर्गत त्रिपुरा को विरोधमुक्त बनाने के लिए पूरे राज्य में बीते एक सप्ताह से आतंक का राज कायम कर रखा है।'


 वाम नेता ने यह मानने से इनकार कर दिया कि भाजपा भारत में आगे बढ़ रही है। उनके अनुसार, भाजपा को भाजपा-शासित राज्य में कई चुनावों में हार का सामना करना पड़ा है।


 येचुरी ने पूर्व मुख्यमंत्री माणिक सरकार और अपनी पार्टी के अन्य नेताओं के साथ त्रिपुरा के उन इलाकों का दौरा किया जहां चुनाव के नतीजों के आने के बाद हिंसा हुई है।


 उन्होंने कहा, 'भाजपा पार्टी कार्यालयों को क्षतिग्रस्त कर सकती है, लोगों और उनकी संपत्तियों पर हमला कर सकती है, लेकिन वे लोग एक विचारधारा को समाप्त नहीं कर सकते।'


 उन्होंने दावा किया कि माकपा व अन्य वाम संगठनों के कार्यालयों में आगजनी और तोड़-फोड़ की गई। इसके अलावा भाजपा सदस्यों द्वारा सैकड़ों वाम नेताओं और समर्थकों के घरों को या तो जलाया गया या क्षतिग्रस्त कर दिया गया। इस दौरान हजारों लोगों को अपने घरों और गांव से बाहर जाने पर मजबूर होना पड़ा। येचुरी ने राज्य में हिंसा समाप्त करने की मांग की।


 उन्होंने कहा, 'हिंसा की घटनाओं और इससे संबंधित मामलों को केंद्र के समक्ष उठाया जाएगा। संकट की इस घड़ी में, त्रिपुरा को अकेले रहने नहीं दिया जाएगा...पूरा देश त्रिपुरा के लोगों के साथ है।'