बांग्लादेशी लड़के फैला रहे हैं असम में लव जिहाद, वीजा बंद करने की मांग

Daily news network Posted: 2018-04-01 16:48:17 IST Updated: 2018-06-22 15:01:30 IST
बांग्लादेशी लड़के फैला रहे हैं असम में लव जिहाद, वीजा बंद करने की मांग
  • भाजपा विधायक शिलादित्य देव ने आरोप लगाया है कि बांग्लादेशी युवक असम में लव जिहाद को धड़ल्ले से अंजाम देने में लगे हुए हैं

गुवाहाटी

भाजपा विधायक शिलादित्य देव ने आरोप लगाया है कि बांग्लादेशी युवक असम में लव जिहाद को धड़ल्ले से अंजाम देने में लगे हुए  हैं। उन्होंने विभिन्न बांग्लादेशी कंपनियों द्वारा व्यावसायिक उद्देश्य से असम भेजे जाने वाले प्रतिनिधि युवकों का पूरा ब्योरा गृह विभाग के जरिए जांच कराने तथा तीन साल के लिए वीजा प्रक्रिया को बंद करने के लिए विदेश मंत्रालय से गुहार लगाई है।

 


 शनिवार को बैठक में भाजपा विधायक शिलादित्य देव ने लव जिहाद की शिकार करीमगंज की मौसमी दास नाम की महिला  के एक बांग्लादेशी युवक के साथ बगैर पासपोर्ट व वीजा के बांग्लादेश भाग जाने के मुद्दे पर चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि, पहले तो  बांग्लादेशी अवैध तरीके से यहां आते थे, पर अब वैध तरीके से विदेश मंत्रालय से वीजा पासपोर्ट लेकर व्यापार के सिलसिले में आने लगे हैं। कई बांग्लादेशी कंपनियां असम में अपने विस्तार तथा इसमें काम करने के लिए विदेश मंत्रालय से वीजा और पासपोर्ट लेकर बांग्लादेशी युवकों को यहां भेजती रही है।

 



इसके बाद ये बांग्लादेशी युवक असम में दाखिल होकर मकान किराय पर लेते हैं और हिन्दू युवतियों को लव जिहाद का शिकार बना लेते हैं। अधिकांश ऐसे बांग्लादेशी युवक यहां कंपनी के व्यवसाय के नाम पर लड़कियों को अपने झूठे प्यार ने फंसाते हैं और फिर कीमती सामान देकर रिझाने की कोशिश करते हैं। करीमगंज की मौसमी दास नाम की लड़की भी इसी लव जिहाद की शिकार होकर देश छोड़कर भाग गई है।

 


 विधायक ने बताया कि मौसमी दास का जो वीडियो वायरल हुआ है और उसमें जो बुर्के में देखा गया है वो बांग्लादेश के किसी थाने का वीडियो है। बता दें कि इस वीडियो में लड़की यह कहते हुए दिख रही है कि वह 21 साल की है और उसने अपनी मर्जी से इस्लाम काबुल किया है और अब वह भारत वापस नहीं जाना चाहती है। वह अपने पति के साथ बांग्लादेश में रहना चाहती है। देव बे यह भी संदेह जताया है कि लड़की ने किसी के दबाव में आकर यह वीडियो बनाया है।

 


 इसके साथ ही विधायक ने यह सवाल उठाया है कि बांग्लादेश सरकार को बिना पासपोर्ट और वीजा के बांग्लादेश पहुंची असम की लड़की को वापस भारत भेज देना चाहिए।