'मणिपुर में महिला-नाबालिगों के खिलाफ अपराध के मामलों में होगी सजा-ए-मौत'

Daily news network Posted: 2018-04-20 16:20:56 IST Updated: 2018-04-20 18:38:35 IST
'मणिपुर में महिला-नाबालिगों के खिलाफ अपराध के मामलों में होगी सजा-ए-मौत'
  • मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने गुरूवार को कहा कि सरकार आने वाले विधानसभा सत्र के दौरान महिलाआें आैर नाबालिगों के खिलाफ अपराध करने वाले अपराधियों के लिए मौत की सजा केे लिए विधेयक पारित करेगी।

इंफाल।

मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने गुरूवार को कहा कि सरकार आने वाले विधानसभा सत्र के दौरान महिलाआें आैर नाबालिगों के खिलाफ अपराध करने वाले अपराधियों के लिए मौत की सजा केे लिए विधेयक पारित करेगी। मुख्यमंत्री ने इंफाल के नित्यपत चुथेक में स्थिति भाजपा कार्यालय में पत्रकारों को संबोधित करते हुए इस बात की घोषणा की।

 

 

 

मुख्यमंत्री ने बताया कि राज्य में महिलाआें के खिलाफ हो रहे अपराध से निपटने के लिए हाल ही में महिला पुलिस स्टेशन स्थापति करवाए गए हैं। कठुआ आैर उन्नाव बलात्कार मामले पूछे जाने पर मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार घटना की निंदा करती है आैर उन्होंने कहा कि इस घटना में दोषियों को सख्त से सख्त सजा मिलनी चाहिए।

 

 


 इसके साथ ही बीरेन सिंह ने कहा कि पूरे देश के सामने कांग्रेस अध्यक्ष राहुन गांधी को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह आैर न्यायपालिका से माफी मांगनी चाहिए। उन्होंने आगे कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने जस्टिस लोया केस में कहा कि जस्टिस का मौत प्रकृतिक तौर पर हुर्इ थी, इसलिए अमित शाह के खिलाफ कोर्ट में दायर याचिका को भी खारिज कर दिया गया। कोर्ट ने कहा कि जजों के बयान पर शक करना और सवाल उठाना न्यायपालिका की अवमानना के समान है। ये याचिकाएं कोर्ट को बदनाम करने की साजिश का हिस्सा हैं। इन्हें राजनीतिक हित साधने के इरादे से दायर किया गया है।

 



मुख्यमंत्री ने कहा कि राहुल गांधी जमीनी राजनीति करने में नाकाम रहे हैं, कोर्ट ने उनके राजनीतिक प्रतिद्वंद्विता के लिए न्यायपालिका के इस्तेमाल करने का पर्दाफाश कर दिया है। इसके साथ ही उन्होंने कहा राज्य की विपक्षी पार्टी बिना किसी सबूत के सरकार को मीडिया के माध्यम से बदनाम करने की कोशिश कर रही है। साथ ही उन्होंने यह भी कहा है कि बिना किसी ठोस सबूत के विपक्ष को आरोप लागने बंद कर देने चाहिए।