बीजेपी के इस गठबंधन पर बौखलाई कांग्रेस, कहाः भारत का ये राज्य बन जाएगा बांग्लादेश

Daily news network Posted: 2019-03-14 11:21:31 IST Updated: 2019-03-14 16:31:34 IST

लोकसभा चुनाव से पहले असम में असम गण परिषद (एजीपी) ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के साथ लोकसभा चुनाव लड़ने का फैसला किया है। हालांकि एजीपी के कुछ नेता इस फैसले से नाराज हैं। एजीपी नेता और असम के पूर्व मुख्यमंत्री प्रफुल्ल कुमार महंत ने गठबंधन पर निशाना साधते हुए कहा कि पार्टी ने उनसे सलाह नहीं ली। महंत ने कहा, मुझे इस बारे में कुछ भी पता नहीं था, मुझे आज सुबह मीडिया के माध्यम से ही पार्टी के फैसले के बारे में पता चला।


 

असम में बीजेपी और एजीपी गठबंधन के आधिकारिक फैसले के कुछ घंटे बाद ही असम गण परिषद में विरोध के स्वर उठने लगे हैं।  महंत ने कहा कि मैं बीजेपी के साथ गठबंधन के खिलाफ हूं। असम समझौते के कार्यान्वयन का समर्थन करता हूं और नागरिकता (संशोधन) विधेयक 2016 का विरोध कर रहा हूं। पूर्व मुख्यमंत्री प्रफुल्ल ने कहा कि अगर राज्य में नागरिकता विधेयक पारित हो जाता है, तो असम बांग्लादेशियों से भर जाएगा. उन्होंने कहा कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने एक सार्वजनिक रैली में बांग्लादेश, पाकिस्तान और अफगानिस्तान के गैर मुस्लिम अल्पसंख्यक जो यहां काफी समय से रह रहे हैं, उन्हें आश्रय देने की बात कही गई थी। इसके बाद बीजेपी के साथ गठबंधन या समझौते का कोई सवाल ही नहीं उठता।

 

 

 

महंत ने कहा, एजीपी का एक खेमा यह आरोप लगा रहा है ​कि मैं निजी महत्वाकांक्षा की वजह से इस गठबंधन का विरोध कर रहा हूं, लेकिन, ऐसा नहीं है। इसके साथ ही उन्होंने पार्टी को ऐसे निर्णय लेने के लिए दोषी ठहराया है। उन्होंने कहा, मुझे गठंधन के मामले पर अंधेरे में रखा गया था। इससे पहले वर्ष 2016 में भी पार्टी के वरिष्ठ सहयोगियों ने बीजेपी के साथ गठबंधन किया था, लेकिन उस समय भी मुझे नहीं बताया गया था। सीट बंटवारे पर भी मुझसे चर्चा नहीं की गई थी। उन्होंने ऐसा कभी नहीं सोचा कि मेरे लिए भी यह जानना महत्वपूर्ण है।

 



महंत ने पार्टी को क्षेत्रीय संगठनों जैसे कि ऑल असम स्टूडेंट्स यूनियन, असोम जटियाटाबादी युबा चतरा परिषद और अन्य को समर्थन देने और उनके साथ मिलकर काम करने के लिए कहा है। उन्होंने एजीपी के वरिष्ठ नेताओं को 'अवसरवादी' न होने की सलाह दी और इन संगठनों के साथ मिलकर असम के हित के लिए काम करने की अपील की।