असम में फहरेगा विशाल तिरंगा, सरकार ने बनाई योजना

Daily news network Posted: 2018-04-04 08:15:13 IST Updated: 2018-04-04 11:01:04 IST
असम में फहरेगा विशाल तिरंगा, सरकार ने बनाई योजना
  • स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत असम सरकार राज्य में एक ऊंचा और विशाल राष्ट्रीय ध्वज स्थापित करने की योजना बना रही है जिसके तहत वह 2.58 करोड़ रुपये खर्च करेगी।

गुवाहाटी

स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत असम सरकार राज्य में एक ऊंचा और विशाल राष्ट्रीय ध्वज स्थापित करने की योजना बना रही है, जिसके तहत वह 2.58 करोड़ रुपये खर्च करेगी। इस बात की जानकारी वित्त मंत्री हेमंत बिस्वा सरमा ने विधानसभा में दी। उन्होंने कहा कि राज्य की राजधानी को स्मार्ट सिटी में तब्दील करने के लिए कुल 13 योजनाएं और बुनियादी ढांचा विकास परियोजनाएं चल रही हैं।

 


 सरमा ने कहा कि 12 परियोजनाओं को पूरा करने के लिए मंजूर की गई कुल लागत 2,303.50 करोड़ रुपये हैं, जबकि सिटी ऑपरेशन सेंटर के लिए अभी कोई राशि निर्धारित नहीं की गई है। इस योजना के तहत गुवाहाटी में ऊंचा और विशाल तिरंगा लगाने के लिए निर्माण परियोजना के लिए 2.58 करोड़ रुपये निश्चित किए गए हैं। उन्होंने कहा कि टेंडर प्रक्रिया को पूरा करके काम को आवंटित कर दिया गया है।



 प्लास्टिक से बने राष्ट्रीय झंडे का इस्तेमाल ना करें


केंद्र सरकार ने 26 जनवरी से पहले लोगों से अपील की थी कि, वे प्लास्टिक से बने राष्ट्रीय ध्वज (तिरंगा) का इस्तेमाल ना करें। सरकार ने राज्यों एवं केंद्रशासित प्रदेशों को ध्वज संहिता का सख्ती से पालन सुनिश्चित करने का भी निर्देश दिया था।  राज्यों एवं केंद्रशासित प्रदेशों को जारी किए गए परामर्श में गृह मंत्रालय ने कहा था कि 'तिरंगा देश के लोगों की उम्मीदों एवं आकांक्षाओं का प्रतिनिधित्व करता है और इसलिए इसे सम्मान प्राप्त होना चाहिए'।



 

 प्लास्टिक से बने झंडे वातारण के लिए हानिकारक


इसके साथ ही मंत्रालय ने यह भी कहा था कि महत्वपूर्ण अवसरों पर कागज के तिरंगे की बजाय प्लास्टिक के तिरंगे का इस्तेमाल किया जा रहा है जो की वातावरण के लिए ठीक नहीं है, क्योंकि प्लास्टिक से बने झंडे कागज के समान जैविक रूप से अपघटनशील नहीं होते हैं, ये लंबे समय तक नष्ट नहीं होते हैं और ये वातावरण के लिए हानिकारक होते हैं। इसके अलावा, प्लास्टिक से बने राष्ट्रीय झंडों का सम्मानपूर्वक उचित निपटान सुनिश्चित करना एक समस्या है।

 


स्मार्ट सिटी परियोजना में चौथी लिस्ट में शामिल शहर

 

 चयन प्रक्रिया के चौथे चरण में अरुणाचल प्रदेश के ईटानगर के साथ- साथ उत्तर प्रदेश के तीन शहरों इसके अलावा तमिलनाडु में इरोड, दादर नगर हवेली में सिलवासा , लक्षद्वीप में कवरती और दमन द्वीप शहर को जगह मिली है। 


स्मार्ट सिटी प्रस्तावों में परियोजना के मुताबिक 12824 करोड रूपये राज्यों के विकास कार्यों के लिए पेश करने की योजना है, इस राशि की मदद से इन शहरों में जीवन को सुविधापूर्ण और सुगम बनाया जा सकेगा।