भाजपा विधायक रमाकांत बनाएंगे अपनी पार्टी, सेक्स वीडियो हुआ था वायरल

Daily news network Posted: 2018-03-26 12:54:39 IST Updated: 2018-03-26 12:54:39 IST
भाजपा विधायक रमाकांत बनाएंगे अपनी पार्टी, सेक्स वीडियो हुआ था वायरल
  • असम में भाजपा विधायक रमाकांत देउरी ने अपनी क्षेत्रीय पार्टी को फिर से लॉन्च करने की घोषणा की है।

गुवाहाटी।

असम में भाजपा विधायक रमाकांत देउरी ने अपनी क्षेत्रीय पार्टी को फिर से लॉन्च करने की घोषणा की है। यह घोषणा राज्य में पंचायत चुनावों से पहले की है, जो मई में होने वाले हैं। भाजपा ने पंचायत चुनाव अकेले लडऩे का फैसला किया है लेकिन रमाकांत देउरी अपनी नई पार्टी बनाकर अन्य क्षेत्रीय दलों से गठबंधन करना चाहते हैं। भाजपा को रमाकांत देउरी के इस कदम में कुछ भी गलत नहीं लगता।

 

 

 

 


भाजपा ने देउरी को नई पार्टी बनाने की मंजूरी भी दे दी है लेकिन पिछले सप्ताह जब देउरी ने अलग पार्टी बनाने की घोषणा की थी तब मोरीगांव के स्थानीय भाजपा नेताओं ने पार्टी नेतृत्व से उनकी शिकायत की थी। आपको बता दें कि रमाकांत देउरी का कथित सेक्स वीडियो वायरल हुआ था। हालांकि देउरी ने वीडियो को फर्जी करार देते हुए कहा था कि उसमें जो शख्स दिखाई दे रहा है वह मैं नहीं हूं। रमाकांत देउरी तिवा जातीय ओइक्या मंच के चीफ थे, लेकिन 2016 में उन्होंने भाजपा के टिकट पर मोरीगांव से चुनाव लड़ा और जीतकर विधायक बने।

 

 

 

 


असम भाजपा के अध्यक्ष रंजीत कुमार दास ने कहा, हमने आगामी पंचायत चुनाव अपने सहयोगी दलों खासतौर पर असम गण परिषद के साथ नहीं लडऩे का फैसला किया है लेकिन हमने स्थानीय नेताओं को उनइलाकों में स्ट्रैटजिक टाइ-अप की अनुमति दी है जहां कांग्रेस सेंध लगा सकती है। मोरीगांव से विधायक देउरी ने कहा कि उन्होंने अपने कदम के बारे में मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल से चर्चा की थी। असम भाजपा के अध्यक्ष ने कहा कि देउरी जब पार्टी में शामिल हुए थे तब उन्होंने एरिया स्पेसिफिक पार्टी का परित्याग नहीं किया था, अब देउरी का प्लान है उनकी मूल पार्टी के नाम से तिवा हटाना,ताकि मुस्लिम, बंगाली और नेपाली समुदायों को पार्टी से जोड़ा जा सके। तिवा एक जनजाति है, जिसके सदस्य पूरे मोरीगांव और पास के कार्बी आंग्लोंग जिले में फैले हुए है।

 

 

 

 


रंजीत दास ने कहा कि गण शक्ति जैसी ट्राइब स्पेसिफिक पार्टियां भी पंचायत चुनावों के लिए अपनी रणनीति के मुताबिक काम करने के लिए स्वतंत्र हैं। आपको बता दें कि गण शक्ति के चीफ रानोज पेगु ने पिछले साल अप्रेल में हुए उप-चुनाव में धेमाजी सीट से जीत दर्ज की थी। धेमाजी मिशिंग ट्राइब बहुल सीट है, जिससे पेगु ताल्लुक रखते हैं। दास ने कहा कि भाजपा का अकेले चुनाव लडऩे का फैसला इसलिए लिया है ताकि पार्टी को अपनी कमियों के बारे में पता चले और जमीनी स्तर पर पार्टी को मजबूत करने के लिए उन गलतियों को ठीक किया जा  सके।