इस सीट पर बीजेपी ने दर्ज की धमाकेदार जीत, कांग्रेस से छीनी ये सीट

Daily news network Posted: 2019-05-25 15:15:19 IST Updated: 2019-05-25 15:15:19 IST
इस सीट पर बीजेपी ने दर्ज की धमाकेदार जीत, कांग्रेस से छीनी ये सीट

अरुणाचल प्रदेश की अरुणाचल पूर्व सीट पर भारतीय जनता पार्टी ने कब्जा किया है। गुरुवार को हुई मतगणना के नतीजों में बीजेपी के गापिर गाओ ने यहां से धमाकेदार जीत दर्ज की है। उन्होंने कांग्रेस उम्मीदवार लोवांगचा वांग्लैट को भारी मतों से हराया। चुनाव आयोग से प्राप्त आंकड़ों के अनुसार तापिर गाओ ने कांग्रेस के लोवांगचा वांग्लैट से 69 हजार 948 ज्यादा वोट प्राप्त किए। बात दें कि 2014 लोकसभा चुनाव में इस सीट से कांग्रेस उम्मीदवार निनोंग इरिंग ने जीत हासिल की थी।

 

 

अरुणाचल पूर्व पर वोटिंग पहले चरण में 11 अप्रैल को हुई थी जिसमें क्षेत्र के कुल 3 लाख 37 हजार 034 वोटरों में से 2 लाख 81 हजार 491 यानी 83.52 फीसदी लोगों ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया था। सामान्य वर्ग वाली इस सीट पर बीजेपी से तापिर गाओ,  कांग्रेस से लोवांगचा वांग्लैट, पीपुल्स पार्टी ऑफ अरुणाचल से मोंगोल योसमो, जनता दल (सेक्युलर) से बेंडे मिल और निर्दलीय उम्मीदवार सीसी सिंगफों ने चुनाव लड़ा। पिछले चुनाव में इस सीट पर 83.51 फीसदी वोटिंग हुई थी। अरुणाचल प्रदेश  के अरुणाचल पूर्व संसदीय क्षेत्र से साल 2014 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी के निनोंग इरिंग ने जीत दर्ज की थी। उन्होंने बीजेपी के प्रत्याशी  तापिर गाओ को 12 हजार 478 वोटों से हराया था। निनोंग इरिंग को एक लाख 18  हजार 455 वोट यानी 45.02 फीसदी वोट मिले थे जबकि उनके प्रतिद्वंद्वी और बीजेपी उम्मीदवार तापिर गाओ को एक लाख पांच हजार 977 वोट मिले थे।

 



अरुणाचल पूर्व में कुल मतदाताओं की संख्या 3 लाख 12 हजार 704 हैं। इनमें से पुरुष वोटरों की संख्या एक लाख 26 हजार 888 जबकि महिला वोटरों की संख्या एक लाख 28 हजार 574 है। साल 2014 के आम चुनाव में इस सीट पर कुल दो लाख 63 हजार 157 वोट पड़े थे। साल 1962 से पहले अरुणाचल प्रदेश को नार्थ-ईस्ट फ्रंटियर एजेंसी (नेफा) के नाम से जाना जाता था, जो असम का हिस्सा था। साल 1965 तक अरुणाचल का प्रशासन विदेश मंत्रालय के हाथ में था। साल 1972 में अरुणाचल  प्रदेश को केंद्र शासित राज्य बना दिया गया और फिर 20 फरवरी 1987 को यह भारतीय संघ का 24वां राज्य बन गया।

 

 


अरुणाचल प्रदेश की पूर्व सीट पर शुरुआत से ही कांग्रेस पार्टी का दबदबा रहा है। इस सीट पर अब तक 11 बार लोकसभा चुनाव हो चुके हैं जिनमें से कांग्रेस को 7 बार जीत मिली है। इस सीट पर एक बार भारतीय जनता पार्टी और एक बार अरुणाचल कांग्रेस पार्टी को भी जीत मिल चुकी है। साल 2004 में भारतीय जनता पार्टी के तापिर गाओ ने यहां से जीत दर्ज की थी। साल 2014 में अरुणाचल पूर्व  संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस के निनोंग इरिंग लगातार दूसरी बार सांसद चुने  गए। इससे पहले 2009 के लोकसभा चुनाव में भी निनोंग इरिंग ने ही इस सीट पर जीत दर्ज की थी।