लखनऊ के अमरूद से बढ़ेगी अरुणाचल के किसानों की आमदनी

Daily news network Posted: 2018-03-14 21:35:03 IST Updated: 2018-03-14 21:35:03 IST
लखनऊ के अमरूद से बढ़ेगी अरुणाचल के किसानों की आमदनी
  • उत्तर प्रदेश के राजधानी लखनऊ के अमरूद से अरुणाचल प्रदेश के किसानों की आमदनी बढ़ेगी। जी हां, ये बिल्कुल सच है। लखनऊ के लाल गूदे वाले मशहूर अमरूद की ललित किस्म अब अरुणाचल प्रदेश के किसानों की अामदनी बढ़ाएगी।

ईटानगर।

उत्तर प्रदेश के राजधानी लखनऊ के अमरूद से अरुणाचल प्रदेश के किसानों की आमदनी बढ़ेगी। जी हां, ये बिल्कुल सच है। लखनऊ के लाल गूदे वाले मशहूर अमरूद की ललित किस्म अब अरुणाचल प्रदेश के किसानों की अामदनी बढ़ाएगी। केन्द्रीय उपोष्ण एवं बागवानी संस्थान (सीआईएसएच) के प्रयासों से संभव हो सका है।


 पिछले साल वहां के किसानों ने केन्द्रीय उपोष्ण एवं बागवानी संस्थान (सीआईएसएच) से गुलाबी अमरूद के एक लाख पौधे खरीदे थे, पौध देने के साथ ही यहां के विशेषज्ञों ने उन्हें प्रशिक्षण भी दिया था, ये पौधे वहां के वातावरण के लिए इतने सही साबित हुए कि कम समय ही उनमें फूल आ गए।


 सीआईएसएच के निदेशक डॉ. शैलेन्द्र राजन बताते हैं, 'अरुणाचल प्रदेश के किसान लिखा माज ने आठ किसानों के साथ मिल करीब 105 हेक्टेयर जमीन में एक लाख पौधे लगाए, वहां की जमीन बहुत उबड-खाबड़ और पथरीली है, लेकिन किसानों के प्रयास से पौधे तैयार हो गए और उसमें फूल-फल भी आ गए, मैंने वहां जाकर भी देखा अच्छी बागवानी तैयार हो रही है।'


 अरुणाचल प्रदेश में अनानास, संतरा, सेब, अनार, आलू बुखारा सहित अन्य पहाड़ी फलों की बागवानी होती है। बारिश के मौसम में वे ट्रकों के जरिए लाखों रुपये खर्च करके पौधे ले गए।

 


 वहां उन्होंने खुद पौधे लगाने के साथ दूसरे किसानों को भी इसके लिए तैयार किया। शुरुआत में लिंगा माज और उनकी पत्नी लिखा अजा लोलेन ने मिलकर आठ किसानों की टीम बनाई। फिर 100 किसानों को तैयार किया। उसके बाद 105 हेक्टेयर में ये पौधे लगाए।