अरुणाचल में लोगों ने बलात्कारियों को पीटा, चौराहे पर न्यूड परेड कराई

Daily news network Posted: 2018-03-27 17:34:02 IST Updated: 2018-03-27 20:03:40 IST
अरुणाचल में लोगों ने बलात्कारियों को पीटा, चौराहे पर न्यूड परेड कराई
  • अरुणाचल प्रदेश में नाबालिग से दुष्कर्म के आरोपियों को स्थानीय लोगों ने पकड़कर जमकर पीटा।

ईटानगर।

अरुणाचल प्रदेश में नाबालिग से दुष्कर्म के आरोपियों को स्थानीय लोगों ने पकड़कर जमकर पीटा। इसके बाद बीच चौराहे न्यूड परेड कराई गई। बताया जा रहा है कि चार बदमाशों ने कथित रूप से एक नाबालिग से बलात्कार किया। पीडि़ता 12 साल की है। वह अरुणाचल प्रदेश के ऊपरी सियांग जिले के पंका गांव की रहने वाली है। दो आरोपी अभी भी फरार हैं। दो अन्य जिन्हें स्थानीय लोगों ने पकड़ा था,उन्हें पकड़कर नग्न किया गया और यिनकियोंग इलाके में परेड कराई गई।

 

 


आपको बता दें कि अरुणाचल प्रदेश में नाबालिगों के साथ बलात्कार की घटनाएं बढ़ती जा रही है। ऐसे कई मामले सामने आए हैं जब आरोपियों को पकड़कर न्यूड परेड कराई गई। एक विशेष मामले में तो दो बलात्कारियों को लोगों ने मौत के घाट उतार दिया था। आपको बता दें कि अरुणाचल प्रदेश में भी नाबालिग बच्चों या बच्चियों से बलात्कार करने वालों के लिए फांसी की सजा का प्रावधान किया गया है। इस संबंध में हाल ही में विधानसभा में विधेयक पारित किया गया था।

 

 

 

गौरतलब है कुछ समय पहले लोहित जिले के तेजु में बच्ची से दुष्कर्म और मर्डर के आरोपियों को भीड़ ने पुलिस थाने से निकालकर पीटा और जिंदा जला डाला था। आरोपियों की पहचान संजय सबर (30) और जगदीश लोहार (25) के रूप में हुई थी। आरोपी अरुणाचल प्रदेश के चाय बागानों में काम करने आए थे। इस बारे में आईजी नवीन पायेंग ने बताया था कि 12 फरवरी को एक पांच वर्षीय बच्ची की दुष्कर्म कर हत्या की गई थी। बच्ची का सिर धड़ से अलग था। उसका शव उसी चाय बागान में मिला, जहां ये दोनों आरोपी काम करते थे। बच्ची के शरीर पर कपड़े तक नहीं थे। शव मिलने के बाद से दोनों आरोपी फरार थे। पुलिस ने सर्च ऑपरेशन चलाकर दोनों आरोपियों को असम से अरेस्ट किया था।




आरोपियों को कोर्ट ने न्यायिक हिरासत में भेजा था। पुलिस के सामने दोनों आरोपियों ने अपना गुनाह कबूल भी कर लिया था। दोनों को तेजू थाने में रखा गया था। इस बीच आरोपियों के गिरफ्तारी की खबर लोगों के बीच आग की तरह फैली। थाने के बाहर भीड़ जमा हो गई। देखते ही देखते भीड़ ने थाने में तोड़-फोड़ करते हुए आरोपियों को लॉकअप से बाहर निकाला और पीटते हुए चौराहे पर लाए और जिंदा जला डाला। मुख्यमंत्री पेमा खांडु ने इस घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया था। उन्होंने कहा बच्ची से दुष्कर्म और हत्या की घटना बर्बर और अमानवीय है। भीड़ का उग्र होना दुर्भाग्यपूर्ण है।