भाजपा शासित राज्य में बिजली कटौती से गुस्साए लोगों ने उठाया खतरनाक कदम

Daily news network Posted: 2019-08-13 11:01:40 IST Updated: 2019-08-13 11:01:40 IST
भाजपा शासित राज्य में बिजली कटौती से गुस्साए लोगों ने उठाया खतरनाक कदम

अगरतला

अगरतला में चल रहे गंभीर बिजली संकट से गुस्साए शहरवासियों ने विरोध प्रदर्शन के दौरान शहर में स्थित दो पॉवर स्टेशन को आग के हवाले कर दिया। बिजली विभाग के अधिकारियों ने कहा कि स्थानीय लोगों ने रामनगर और आइजीएम क्षेत्र में स्थित पावर स्टेशन के भीतर टेबल और कुर्सियों, बिजली उपकरणों को नुकसान पहुंचाया है। त्रिपुरा एक अतिरिक्त बिजली उत्पादक और निर्यातक राज्य है, लेकिन रूखिया गैस आधारित बिजली उत्पादन संयंत्र का मुख्य ट्रांसफार्मर अचानक बंद होने से राजधानी में बिजली का संकट पैदा हो गया है। रविवार रातभर और सोमवार दोपहर तक अगरतला में बिजली बंद रहने से शहरवासियों का गुस्सा फूट पड़ा।

 



टूटा लोगों के सब्र का बांध

त्रिपुरा राज्य बिजली कंपनी के बिजली आपूर्ति नियंत्रण कक्षों में टोल फ्री हेल्पलाइन के कॉल का कोई जवाब नही आने से उपभोक्ता और ज्यादा गुस्सा गए। एक उपभोक्ता के मुताबिक हमने हेल्पलाइन नंबर से बिजली कंपनी के कार्यालयों में बिजली की आपूर्ति बंद होने की वजह जानने और आपूर्ति बहाली की जानकारी लेने के कई बार फोन किए, लेकिन किसी ने हमारे कॉल को नहीं उठाया। 




12 से 14 घंटे की कटौती

शहरवासियों ने बताया कि राजधानी में लगातार 12-14 घंटे लंबी बिजली कटौती हमने पहले कभी नहीं देखी। टीएसईसीएल के एक अधिकारी ने बताया कि रूखिया गैस बिजली उत्पादन का ट्रांसफार्मर बंद होने और हाल ही में लगाई 33 केवी प्रसारण लाइन की एक भूमिगत केबल जल जाने की वजह से राजधानी में बिजली आपूर्ति बाधित हो गई।