इस राज्य में 648 लोगों किया गया आइसोलेट, बताई गई ये वजह

इस राज्य में 648 लोगों किया गया आइसोलेट, बताई गई ये वजह News

कोरोना का कहर हर तरफ मचा हुआ है।

कोहिमा

कोरोना का कहर हर तरफ मचा हुआ है। इस बीच इंड्स एनर्जी पावर प्लांट में कार्यरत नागालैंड की महिला कर्मचारी को संदिग्ध मानते कर्मचारियों की शिकायत पर जिला अस्पताल में स्वास्थ्य जांच परीक्षण के लिए लाया गया। जहां स्वास्थ्य परीक्षण के बाद उन्हें घर मे रहने की सलाह दी गई है।


देश विदेश कोरोना प्रभावित क्षेत्रों से आए ग्रामीण की पहचान कर स्वास्थ्य विभाग ने अब तक जिले 648 लोगों की स्क्रीनिंग कर उन्हें केवल घरों में रहने की सलाह देते हुए नजरबंद रहने को कहा गया है। इस आंकड़े में केजीएच में 35 एमसीएच अस्पताल में 6 लोग इस जांच दायरे में आये है। ये लोग नेपाल, दुबई, स्विजरलैंड, मरीशस के देश के विभिन्न राज्यों से लेकर कोरोना का दंश झेल रही केरल से भी बड़ी संख्या में आने वाले है।


प्रदेश में कोरोना पाजिटिव का मरीज मिलने के बाद सरकारी तंत्र से लेकर आम जनता में इस वायरस के प्रकोप के चलते खलबली मच गई है। शासन अपने स्तर में कवायद करते हुए इससे बचने के लिए जरूरी कदम उठा रही है। केंद्रीय व वर्ल्ड स्वास्थ्य महकमे के दिशा निर्देश का परिपालन भी कर रही है।


इसी कड़ी में कोरोना को लेकर रायगढ़ में सतर्कता बरतते हुए चौक चौराहे पर बाहर से आये लोगो की जांच की जा रही है। इस दौरान इंड्स एनर्जी कंपनी में काम करने आई नागालैंड की दो लड़कियों को संदिग्ध मान कर जांच के लिए अस्पताल लाया गया है। बताया जा रहा है कि दोनों युवतियां कंपनी मैनेजर के साथ फैक्ट्री से मालिक के घर इनोवा कार से जा रही थी जांच में नागालैंड से आना पाये जाने पर उन्हें अस्पताल में जांच कर ब्लड सैंपल लिया गया।

इसके अलावा मैनेजर ड्राइवर व एक अन्य कार सवार की स्वास्थ्य स्क्रीनिंग की गई और सभी को 14 दिनों तक घर पर ही आईसुलेट रहने की सलाह दी गयी है। बताया जा रहा है की दोनो कैंटिन कर्मचारी है। 

अब हम twitter पर भी उपलब्ध हैं। ताजा एवं बेहतरीन खबरों के लिए Follow करें हमारा पेज : https://twitter.com/dailynews360

Top News

Tending Now