त्रिपुरा: RSS कार्यकर्ताओं की हत्या का खुलेगा राज, बीजेपी ने खोली 20 साल पुरानी फाइल

Daily news network Posted: 2018-04-24 09:58:24 IST Updated: 2018-04-24 17:16:53 IST
त्रिपुरा: RSS कार्यकर्ताओं की हत्या का खुलेगा राज, बीजेपी ने खोली 20 साल पुरानी फाइल
  • त्रिपुरा में आई भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने 20 साल पहले एक मामले की फाइल दोबारा खोल दी है।

अगरतला।

त्रिपुरा में आई भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने 20 साल पहले एक मामले की फाइल दोबारा खोल दी है। दरअसल इस मामले में आरएसएस के 4 प्रचारकों की हत्या कर दी गई थी। इन हत्याओं के आरोप नेशनल लिबरेशन फ्रंट ऑफ  त्रिपुरा पर लगे थे, जिसे लेकर काफी हंगामा भी हुआ था. लेकिन तत्कालीन सरकार में इस मामले पर खास प्रगति नहीं हुई। अब राज्य में भाजपा की सरकार बनने पर 20 साल पुराने इस मामले की जांच फिर से की जाएगी। राज्य सरकार ने मामले की जांच के लिए स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम का गठन किया है।

 

 


त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब देब ने बताया कि 20 साल पहले हुए प्रचारकों के हत्याकांड में हमने षड्यंत्र की शंका के आधार पर एसआईटी का गठन किया। मामले की जांच के लिए इंस्पेक्टर कमलेंदु भौमिक की अगुवाई में टीम गठित कर दी गई है। इससे पहले प्रदेश सरकार ने एक हफ्ते पहले ही वर्ष 1993 में कांग्रेस पंचायत प्रमुख आतिश चौधरी की हत्या के मामले में भी ताजा जांच का आदेश दिया है। कांग्रेस पार्टी के नेता इस हत्याकांड में सीपीएम वर्कर्स के शामिल होने का आरोप लगाते रहे हैं। यह केस भी लंबे अरसे से ठंडे बस्ते में पड़ा हुआ था। 



 

 

वर्ष 1999 के अगस्त महीने में नेशनल लिबरेशन फ्रंट ऑफ  त्रिपुरा (एनएलएफटी) ने आरएसएस के चार प्रचारकों श्यामलाल सेनगुप्ता (जोनल महासचिव), सुधामय दत्ता (अगरतला के एरिया इन्चार्जद्ध), दिनेन्द्र नाथ डे (असम में प्रचारक) और शुभांकर चक्रवर्ती (जिला प्रचारक) का अपहरण कर लिया था, जिसके बाद उनकी हत्या कर दी गई थी। प्रचारक के मर्डर केस में आरएसएस की तरफ  से कई बार स्वतंत्र जांच की मांग उठाई जा चुकी थी, लेकिन प्रदेश में काबिज लेफ्ट फ्रंट की सरकार इस मांग को टालती रही। हाल ही में त्रिपुरा विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने भारी बहुमत हासिल करते हुए सरकार बनाई। इसके बाद से ही आसार लगाए जा रहे थे कि इस हत्याकांड की दोबारा जांच होगी। जीत के बाद पीएम मोदी ने अपने संबोधन में भी आरएसएस प्रचारकों की हत्या का जिक्र किया था।