भारत में 3 साल के उच्चतम स्तर पर बेरोजगारी दर, इस राज्य में स्थिति बेहद खराब

Daily news network Posted: 2019-11-02 12:01:37 IST Updated: 2019-11-02 12:01:37 IST
भारत में 3 साल के उच्चतम स्तर पर बेरोजगारी दर, इस राज्य में स्थिति बेहद खराब
  • भारत में रोजगारों की स्थिति खराब हो रही है। लोगों को नौकरियां नहीं मिल रही हैं, ऐसे में बेरोजगारी एक बड़ी समस्या बनकर उभर रही है। हाल ही में हुए एक अध्ययन में इस बात का खुलासा हुआ है।

नई दिल्ली/अगरतला।

भारत में रोजगारों की स्थिति खराब हो रही है। लोगों को नौकरियां नहीं मिल रही हैं, ऐसे में बेरोजगारी एक बड़ी समस्या बनकर उभर रही है। हाल ही में हुए एक अध्ययन में इस बात का खुलासा हुआ है। संतोष मेहरोत्रा ​​और जाजति के परिदा की ओर से लिखे गए और गुरुवार को अजीम प्रेमजी विश्वविद्यालय में सतत रोजगार केंद्र की ओर से प्रकाशित एक नया शैक्षिक पत्र का दावा है कि भारत में कुल रोजगार 2011-12 और 2017-18 के बीच भारी गिरावट आई है। यह पहली बार है जब स्वतंत्र भारत के इतिहास में इस तरह की गिरावट दर्ज की गई है।


 जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में अर्थशास्त्र के प्रोफेसर मेहरोत्रा ​​और पंजाब के केंद्रीय विश्वविद्यालय में प्रोफेसर परिदा के अनुसार, साल 2011-12 और 2017-18 के दौरान कुल रोजगार में 90 लाख की गिरावट आई।


 पहले के अध्ययन से विपरीत आंकड़े

 गौरतलब है कि इससे पहले दावा किया गया था कि भारत में रोजगार और रोजगार के अवसर बढ़े हैं। आर्थिक सलाहकार परिषद की ओर से प्रधानमंत्री को सौंपे गए अध्ययन के अनुसार साल 2011-12 में कुल रोजगार 4330 लाख से बढ़कर 2017-18 में 4570 लाख हो गया है। यह अध्ययन लविश भंडारी और अमरेश दुबे की ओर से किया गया था। एेसे में मेहरोत्रा और परिदा का अध्ययन इस अध्ययन के विपरीत स्थिति का दावा कर रहा है। मेहरोत्रा ​​और परिदा का दावा है कि 2011-12 में रोजगार 4740 लाख से गिरकर 2017-18 में 4650 लाख हो गया। इससे पहले हुए एक अध्ययन में दावा किया गया था कि 2011-12 और 2017-18 के बीच हर साल 26 लाख लोगों की नौकरियां चली गईं।