हर साल सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले खिलाडिय़ों को आईसीसी सालाना पुरस्कारों के जरिए सम्मानित करता है. सोमवार को आईसीसी ने 2021 के बेस्ट खिलाडिय़ों के नाम का ऐलान किया है. इस अवार्ड में पाकिस्तानी खिलाडिय़ों का दबदबा रहा. वहीं, भारत की लाज स्मृति मंधाना ने बचाई है. मंधाना को आईसीसी ने वुमन क्रिकेटर ऑफ द ईयर बनाया है.

पाकिस्तान के कप्तान बाबर आजम आईसीसी वनडे क्रिकेटर ऑफ द ईयर हैं तो वहीं, पाकिस्तान के ही तेज गेंदबाज शाहीन शाह अफरीदी को मेंस क्रिकेटर ऑफ द ईयर चुना गया है. टी-20 क्रिकेटर ऑफ द ईयर पहले ही मोहम्मद रिजवान बन चुके हैं. शाहीन अफरीदी सबसे कम उम्र के प्लेयर ऑफ दी ईयर हैं. उन्होंने 21 साल की उम्र में यह सम्मान हासिल किया. 

शाहीन ने साल 2021 में 36 इंटरनेशनल मुकाबले खेले और 22.20 की जबरदस्त औसत के साथ 78 विकेट लिए. 51 रन देकर छह विकेट उनका बेस्ट प्रदर्शन रहा. टेस्ट क्रिकेट की बात करें तो इंग्लैंड के कप्तान जो रूट ने अपना जलवा बिखेरा है और उन्हें साल 2021 के लिए टेस्ट क्रिकेटर ऑफ द ईयर चुना गया है.

स्मृति मंधाना 2018 के बाद एक बार फिर वुमन क्रिकेटर ऑफ द ईयर बनी हैं. मंधाना ने 2021 में 22 इंटरनेशनल मैच खेले थे और 38.86 की औसत से 855 रन बनाए थे. मंधाना के आलावा और कोई भी भारतीय खिलाड़ी आईसीसी अवॉर्डस में अपना जलवा नहीं दिखा पाया.

2021 में बाबर ने वनडे में कर दिया कमाल

बाबर आजम ने साल 2021 में छह मैचों में दो शतक की मदद से 405 रन बनाए. इस दौरान उनकी औसत 67.50 का रहा. साउथ अफ्रीका के खिलाफ वनडे सीरीज में उन्होंने सबसे ज्यादा 228 रन बनाए. पहले वनडे में उन्होंने शतक लगाया. आखिरी वनडे में उनके बल्ले से 94 रनों की पारी निकली थी. आजम ने पिछले साल ही पाकिस्तान की कप्तानी संभाली और उनके ही कप्तानी में पाकिस्तान ने वर्ल्ड कप में पहली बार भारत मात दी. उन्हें आईसीसी अवार्ड्स में साला 2021 की वनडे टीम का कप्तान और टी20 टीम का कप्तान भी चुना गया है.

जो रूट को भी सम्मान

इंग्लैंड के टेस्ट कप्तान जो रूट को साल 2021 में टेस्ट क्रिकेट में किए कमाल प्रदर्शन की वजह से टेस्ट क्रिकेटर ऑफ द ईयर बनाया गया है. उनका मुकाबला 4 बड़े खिलाडिय़ों से था जिनमें आर. अश्विन भी थे. जो रूट ने 2021 में कुल 15 टेस्ट मैच खेले. इस दौरान उन्होंने 6 शतक के साथ 1708 रन बनाए. वो एक कैलेंडर साल में सर्वाधिक टेस्ट रन बनाने वाले इंग्लैंड के बल्लेबाज भी थे.