मनीला। ओलंपीक में दो बार की पदक विजेता भारत की पीवी सिंधु ने एशियाई चैंपियनशिप(बीएसी) के सेमीफाइनल मैच में शनिवार को गलत निर्णय देने पर चेयर अंपायर और रेफरी पर अपना आपा खो दिया। सेमीफाइनल मैच में सिंधु को जापान के मौजूदा विश्व चैंपियन अकाने यामागुची से 21-13, 19-21, 16-21 से हार का सामना करना पड़ा। इस प्रकार भारतीय खिलाड़ी ने अपना अभियान कांस्य पदक के साथ खत्म किया। 

यह भी पढ़ें- तुरा के BJP MDC बर्नार्ड एन मारक ने मुख्यमंत्री कॉनराड संगमा पर लगाए गंभीर आरोप

भारतीय बैंडमिंटन खिलाड़ी एक गेम से आगे थी और दूसरे गेम में वह 14-11 से आगे चल रही थी। यह घटना उस समय हुई जब सिंधु ने सर्व करने में बहुत अधिक समय ले लिया, जिसके बाद उन्हें एक पॉइंट की पेनल्टी का सामना करना पड़ा। अंपायर के कॉल के कारण सिंधु की चेयर अंपायर के साथ गहमा-गहमी हो गई, जिसमें उन्होंने कहा कि उनकी प्रतिद्वंद्वी सर्व के लिए तैयार नहीं थी, लेकिन अंपायर और रेफरी ने उनकी बात नहीं मानी। इस घटना के बाद सिंधु अपनी लय को जारी नहीं रख सकीं, जिसका फायदा अकाने को मिला और मैच निर्णायक मोड़ पर चला गया और इसी प्रकार सिंधु का अभिायन थम गया। 

यह भी पढ़ें- केंद्रीय मंत्री किशन रेड्डी आज करेंगे मणिपुर का दौरा, इम्फाल को देंगे कई सौगात

मैच के बाद सिंधु अपना गुस्सा काबू नहीं कर पाईं और उन्होंने कहा, 'अंपायर ने मुझसे कहा कि तुम बहुत समय ले चुकी हो लेकिन विपक्षी खिलाड़ी उस समय तैयार नहीं थी।' हालांकि अंपायर ने उसको पॉइंट दे दिया, जो बिल्कुल गलत था। उन्होंने कहा कि उन्हें लगता है कि उनके हारने का असली कारण यही था। उन्होंने कहा, 'मैंने इसके बारे में मुख्य रेफरी को बताया लेकिन उन्होंने कहा यह पहले ही हो चुका है। मुख्य रेफरी होने के नाते उन्हें कम से कम एक बार इस गलती को देखना चाहिए था।' 

सोशल मीडिया में बांटी गयी फोटो में सिंधु पुरस्कार वितरण में अनुपस्थित दिखाई दीं और नेटिजन्स अंदाजा लगा रहे हैं कि सिंधु ने समारोह का बहिष्कार कर दिया है।