गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों में टीम से बाहर रहे अनुभवी मुक्केबाज शिवा थापा ने अगस्त में जकार्ता में होने वाले एशियाई खेलों के लिए शुक्रवार को घोषित भारतीय टीम में वापसी कर ली है।


चयन समिति की माथापच्ची भरी बैठक और 3-3 चयन ट्रायल के बाद भारतीय मुक्केबाजी महासंघ (बीएफआई) ने एशियाई खेलों के लिए 10 मुक्केबाजों के नामों का ऐलान कर दिया है जिसमें 3 महिला मुक्केबाज शामिल हैं।

राष्ट्रमंडल खेलों में टीम से बाहर रहे अनुभवी मुक्केबाज थापा ने एशियाई खेलों के लिए टीम में वापसी की है। विश्व चैम्पियनशिप में कांस्य पदक विजेता थापा टीम को मजबूती प्रदान करेंगे। शुक्रवार को इंदिरा गांधी स्टेडियम में आयोजित ट्रायल्स में राष्ट्रमंडल खेलों के रजत पदक विजेता मनीष कौशिक दो बार ओलम्पिक खेलने वाले थापा से मात खा गए और अपनी जगह गंवा बैठे। 

कौशिक ने इससे पहले दो बार थापा को मात दी थी, लेकिन इस मुकाबले में असम के मुक्केबाज ने अपने अनुभव का अच्छा इस्तेमाल किया और कौशिक को हराया।


पुरुष टीम का दारोमदार 75 किलोग्राम भारवर्ग में विकास कृष्णन पर होगा। विकास ने 2010 और 2014 के एशियाई खेलों में क्रमश: स्वर्ण और कांस्य पदक अपने नाम किया था।

उनके अलावा 2010 के राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण और 2018 के राष्ट्रमंडल खेलों में कांस्य पदक जीतने वाले मनोज कुमार 69 किग्रा भारवर्ग में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे।


राष्ट्रीय रैंकिंग में पहले स्थान पर काबिज और हाल ही में केमेस्ट्री कप में स्वर्ण पदक जीतने वाले गौरव सोलंकी 52 किलोग्राम भारवर्ग में एशियाई खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। गौरव ने इसी साल हुए राष्ट्रमंडल खेलों में भी स्वर्ण पदक जीता था। उनकी कोशिश अपने इसी प्रदर्शन को एशियाई खेलों में जारी रखने की होगी।


राष्ट्रमंडल खेलों में 56 किलोग्राम भारवर्ग में कांस्य पदक जीतने वाले मोहम्मद हुसामुद्दीन और रजत पदक जीतने वाले अमित को 49 किलोग्राम भारवर्ग में जगह दी गई है।

पुरुषों का दूसरा ट्रायल 64 किलोग्राम भारवर्ग में था। इस मुकाबले में रोहित टोकस और धीरज का सामना होना था। दोनों के बीच अच्छी टक्कर हुई। सेना के मुक्केबाज धीरज ने तीसरे राउंड में बेहतरीन खेल दिखाते हुए मैच अपने नाम कर टीम में जगह बनाई।


वहीं महिला श्रेणी में भारत तीन भारवर्ग में हिस्सा लेगा जिनमें 2016 की विश्व चैम्पियनशिप की रजत पदक विजेता सोनिया लाठेर ने 57 किलोग्राम भारवर्ग में अपना स्थान पक्का किया। वहीं उमाखानोव मेमोरियल टूर्नामेंट में कांस्य पदक जीतने वाली पवित्रा 60 किलोग्राम भारवर्ग में भारत के लिए रिंग में उतरेंगी। 51 किलोग्राम भारवर्ग में सरजू बाला देवी ने पिंकी जांगड़ा को मात देकर जकार्ता का टिकट कटाया।