भारतीय क्रिकेट टीम (Indian cricket team) के नए हेड कोच को लेकर बड़ी खबर आ रही है. राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) ने कोच बनने के लिए अपनी रजामंदी दे दी है. द्रविड़ का करार पहले 2023 (Dravid's contract will first be till 2023) तक के लिए होगा.  रिपोर्ट के मुताबिक, द्रविड़ टीम इंडिया के कोच बनने को लेकर सहमत हो गए हैं. 

दरअसल, आईपीएल 2021 के फाइनल के लिए दुबई पहुंचे बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली (Sourav Ganguly ) और सचिव जय शाह (Jay Shah) ने द्रविड़ से मुलाकात की थी. दोनों ने द्रविड़ से भारतीय टीम का हेड कोच बनने की गुजारिश की थी और वो इसके लिए तैयार हो गए हैं.

द्रविड़ टी20 विश्व कप के बाद बतौर (Dravid will join Team India as head coach after the T20 World Cup) हेड कोच टीम इंडिया से जुड़ जाएंगे. यानी बतौर हेड कोच आधिकारिक तौर पर द्रविड़ का पहला मिशन न्यूजीलैंड के खिलाफ घरेलू वनडे सीरीज होगा. 

BCCI के एक बड़े पदाधिकारी ने आईपीएल फाइनल के बाद इस अखबार को बताया कि द्रविड़ ने इस बात की पुष्टि कर दी है कि वो भारतीय क्रिकेट टीम के नए कोच होंगे. वो जल्द ही नेशनल क्रिकेट एकेडमी के डायरेक्टर का पद छोड़ देंगे. हालांकि, इस पर बीसीसीआई की तरफ से आधिकारिक बयान आना बाकी है.

द्रविड़ को हेड कोच बनाने के अलावा उनके भरोसेमंद पारस म्हाम्ब्रे (Paras Mhambrey) को टीम इंडिया का बॉलिंग कोच बनाया गया है. इसके अलावा विक्रम राठौर टीम के बल्लेबाजी कोच बने रहेंगे. जबकि फील्डिंग कोच आर. श्रीधर के रिप्लेसमेंट को लेकर कोई नाम अब तक तय नहीं हुआ है.

खबर के मुताबिक, द्रविड़ को दो साल का अनुबंध दिया गया है. यानी ये करार साल 2023 वर्ल्ड कप तक चलेगा. उन्हें 10 करोड़ रुपये बतौर वेतन मिलेगा. उन्हें पिछले महीने ही एनसीए प्रमुख के रूप में फिर से नियुक्त किया गया था. लेकिन भारतीय क्रिकेट को आगे ले जाने के लिए बीसीसीआई को एक मजबूत उम्मीदवार की जरूरत थी. गांगुली और जय शाह की नजर में ये काम द्रविड़ से बेहतर कोई अंजाम नहीं दे सकता था. इसलिए उन्हें इस रोल के लिए चुना गया. वो न्यूजीलैंड सीरीज से यह जिम्मेदारी संभाल लेंगे.