विराट कोहली की अगुआई वाली टीम इंडिया ने मेजबान इंग्‍लैंड के खिलाफ 5 टेस्‍ट मैचों की सीरीज में 1-0 से बढ़त हासिल कर ली है. पहला टेस्‍ट बारिश के कारण ड्रॉ होने के बाद भारत ने लॉर्ड्स में दूसरा टेस्‍ट 151 रन से जीता. तीसरा मुकाबला 25 अगस्‍त से खेला जाएगा. 

हालांकि दूसरे टेस्‍ट के बाद से ही भारतीय गेंदबाज मोहम्‍मद सिराज, मोहम्‍मद शमी सभी की तारीफ हो रही है, मगर कप्‍तान कोहली के एक फैसले पर इंग्‍लैंड के खिलाफ टेस्‍ट सीरीज शुरू होने से ही सवाल खड़े किए जा रहे हैं. दरअसल शुरुआती दोनों मैचों में ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा को आर अश्विन पर तवज्‍जो दी गई और इस वजह से कोहली के फैसले पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं.

हालांकि अभी तक जडेजा ने अपनी गेंदबाजी से निराश ही किया है. उन्‍होंने 44 ओवर फेंके, मगर एक भी सफलता नहीं मिली. लॉर्ड्स की जीत भारतीय तेज गेंदबाजों के नाम रही थी. स्पिनर जडेजा गेंद से लगातार संघर्ष कर रहे हैं, जिस वजह से लीड्स में खेले जाने वाले तीसरे टेस्‍ट में अश्विन को मौका मिल सकता है.

जडेजा अपनी बल्‍लेबाजी के कारण पहले पसंदीदा स्पिनर थे. नॉटिंघम और लंदन की परिस्थिति भी जडेजा के पक्ष में रही थी. पूरे इंग्‍लैंड दौरे पर जडेजा अभी तक महज 2 विकेट ही ले पाए हैं. एक विकेट न्‍यूजीलैंड के खिलाफ वर्ल्‍ड टेस्‍ट चैंपियनशिप के फाइनल में और एक विकेट काउंटी इलेवन के खिलाफ अभ्‍यास मैच में लिया था. वहीं अश्विन काफी सफल रहे. वर्ल्‍ड टेस्‍ट चैंपियनशिप के फाइनल में उन्‍होंने 4 विकेट लिए थे जबकि सरे के लिए 7 विकेट लिया था. द टेलीग्राफ से बात करते हुए मुश्‍ताक मोहम्‍मद ने कहा कि अश्विन परफेक्‍ट संतुलन देंगे.

उन्‍होंने कहा कि जडेजा को अपनी गेंदबाजी पर काम करने की जरूरत है. वह बहुत अधिक फुल लेंथ गेंद और हाफ वॉली फेंक रहे हैं, जिससे बल्‍लेबाजों के लिए काम आसान हो गया है. वहीं अश्विन भारत के गेम प्‍लान में अहम रोल निभा सकते हैं. वह इशांत के मुकाबले अच्‍छी बल्‍लेबाजी भी कर सकते हैं.

लीड्स की परिस्थिति भी अश्विन के पक्ष में है. सूखी पिच के कारण आखिरी के 2 दिन स्पिनर्स कमाल कर सकते हैं. विराट कोहली गेंदबाजी संयोजन में बदलाव कर सकते हैं. 4 तेज गेंदबाज और एक स्पिनर्स की बजाय कोहली 3 तेज गेंदबाज और दो स्पिनर्स के साथ मैदान पर उतर सकते हैं.