18वें एशियाई खेलों में धमाकेदार प्रदर्शन कर पदक जीतने वाले भारतीय खिलाड़ियों से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को मुलाकात की। प्रधानमंत्री ने सभी विजेताओं को उनकी उपलब्धि पर बधाई दी।


प्रधानमंत्री कार्यालय से जारी एक बयान में कहा गया कि प्रधानमंत्री मोदी ने पदक विजेताओं को बधाई दी है और एशियाई खेलों में उनके शानदार प्रदर्शन की प्रशंसा भी की है।


मोदी ने पदक विजेताओं से कहा कि उनकी उपलब्धियों ने भारत के गौरव और स्तर को बढ़ाया है। इसके साथ ही उन्होंने आशा जताई है कि पदक विजेता अपने पैरों को जमीं पर जमाए रखते हुए अपनी लोकप्रियता और उपलब्धियों के कारण स्वयं का ध्यान नहीं भटकने देंगे।


इस मुलाकात के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने खिलाड़ियों से उनके प्रदर्शन में सुधार के लिए नई तकनीक के उपयोग का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि खिलाड़ियों को इन तकनीक के इस्तेमाल से अपने खेल में सुधार जारी रखना चाहिए।


इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने छोटे शहरों से निकलने वाली युवा प्रतिभाओं के विकास पर खुशी जाहिर की है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में काफी क्षमता है और हम इन क्षेत्रों की प्रतिभाओं का विकास करना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि बाहर के लोग खिलाड़ियों द्वारा उनकी दिनचर्या में होने वाली मुश्किलों से अनजान हैं।


प्रधानमंत्री मोदी ने खिलाड़ियों से कहा कि वह इन उपलब्धियों पर रुकें नहीं और उन्हें और भी उपलब्धियां हासिल करने के लिए अधिक मेहनत करने के लिए कहा है। उन्होंने कहा कि पदक विजेताओं के लिए सबसे बड़ी चुनौती अब शुरू हो रही है और उन्हें ओलम्पिक खेलों में पदक जीतने के अपने लक्ष्य को नहीं छोड़ना चाहिए। खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने भी इस दौरान मौजूद थे।


भारत ने इंडोनेशिया में आयोजित हुए 18वें एशियाई खेलों में 69 पदक हासिल किए हैं। 2010 में भारत ने ग्वांग्झू एशियाई खेलों में 65 पदक हासिल किए थे। भारत ने इस साल 1951 की बराबरी करते हुए कुल 15 स्वर्ण अपने नाम किए।