पेशेवर मुक्केबाजी का हिस्सा बनने के 6 महीने से भी कम समय में पूर्व विश्व चैम्पियन एस सरिता देवी और राष्ट्रमंडल खेलों की कांस्य पदक विजेता पिंकी जांगड़ा ने राष्ट्रीय मुक्केबाजी महासंघ से माफी मांगने के बाद एमेच्योर वर्ग में वापसी कर ली है। भारतीय मुक्केबाजी परिषद (आईबीसी) से अनुबंध करने वाली ये दोनों मुक्केबाज भारतीय मुक्केबाजी महासंघ (बीएफआई) को माफी के पत्र सौंपने के बाद राष्ट्रीय शिविर से दोबारा जुड़ गई हैं।

बीएफआई के शीर्ष अधिकारी ने कहा कि पिंकी सोमवार से शिविर से जुड़ेंगी, जबकि कुछ निजी मुद्दों को सुलझाने के बाद सरिता भी जल्द ही जुड़ेंगी। दोनों ने माफी मांग ली है। सरिता ने पेशेवर बनते समय हमारे साथ-सलाह मशविरा नहीं किया था, जबकि पिंकी ने बिना स्वीकृति के शिविर छोड़ दिया था। सरिता ने 29 जनवरी को अपनी पदार्पण पेशेवर बाउट जीतने के बाद से दोबारा प्रतिस्पर्धा नहीं की है और फिलहाल मुंबई में अपनी मां के पास हैं, जो बीमार हैं और वह अगले कुछ दिनों में शिविर से जुड़ेंगी। 

सरिता के करीबी सूत्र ने बताया कि सरिता अपनी मां के स्वास्थ्य को लेकर व्यस्त है। वह जल्द ही शिविर से जुड़ेगी। उसने बीएफआई से इस साल आग्रह किया था, क्योंकि इस साल एशियाई चैम्पियनशिप नवंबर (वियतनाम) में है। बीएफआई ने उसका आग्रह स्वीकार कर लिया है। सूत्र ने कहा, उसने बीएफआई अध्यक्ष अजय सिंह से बात की और उन्होंने उसका काफी समर्थन किया।

पिंकी ने कहा कि पेशेवर सर्किट का हिस्सा बनने के बाद वह एमेच्योर वर्ग में वापसी करने को लेकर उत्सुक थी। उन्होंने कहा कि मैं पेशेवर सर्किट में हाथ आजमाना चाहती थी जो मैंने किया। यह मेरी मजबूती और ताकत में इजाफे के लिए था। इसके अलावा अपनी पदार्पण जीत के बाद मैंने कोई बाउट नहीं लड़ी। इसलिए मैंने महासंघ से मुझे वापस लेने का आग्रह किया और वे सहमत हो गए।