जोश, जुनून और दीवानगी की दुनिया फुटबॉल का महाकुंभ फीफा वर्ल्ड कप की शुरुआत हो गई है। हर दिन रोमांचक मुकाबले हो रहे हैं। दुनिया भर के फुटबॉल प्रेमी अपनी पसंदीदा टीम को चैंपियन बनते देखना चाहेंगे। दुनिया भर के युवाओं का रोमांच फुटबॉल के इस महाकुंभ फीफा के प्रति इतना बढ़ गया है कि वह रात भर जागकर अपनी पसंदीदा टीम का मैच देखते हैं। फुटबॉल के इस महाकुंभ के बीच आज हम आपको भारत के एक स्टार फुटबॉलर से रूबरू करवा रहे हैं। 

9 जून 1990 को जन्मे भारतीय फुटबॉलर निर्मल छेत्री मुख्य रूप से आई-लीग में डीएसके शिवजियों के लिए एक डिफेंडर के तौर पर खेलते हैं। उनका जन्म सिक्किम के एक मेल्ली नामक शहर में हुआ था। उन्होंने 5 दिसंबर 2011 को पहली बार अंतरराष्ट्रीय मैच खेला था। इस मैच में भारत ने भूटान को 5-0 से हरा दिया था।

10 साल की उम्र में छेत्री ने नामची स्पोर्ट्स हॉस्टल के साथ अपने फुटबॉल करियर की शुरुआत की थी। पांच साल बाद छेत्री साल 2005 में सिक्किम स्पोर्ट्स अकादमी से जुड़े। 2005-06 में अपने राज्य सिक्किम के लिए खेलने के बाद एयर इंडिया फुटबॉल टीम में शामिल हो गए। साल 2008 में छेत्री पश्चिम बंगाल फुटबॉल टीम के लिए खेले। उसके बाद सिर्फ 21 साल की उम्र साल 2011 में निर्मल छेत्री भारतीय राष्ट्रीय फुटबॉल टीम में शामिल हो गए।