न्यूजीलैंड के खिलाफ सीरीज 1-1 से बराबर होने के बाद बुधवार को होेने वाले तीसरे और निर्णायक टी20 मुकाबले में भारत उन खिलाड़ियों को एकादश में शामिल कर सकता है, जिनको अब तक सीरीज में मौका नहीं मिला है। इकाना स्टेडियम की पेचीदा पिच पर भारत ने न्यूजीलैंड पर पांच विकेट से जीत दर्ज कर ली, लेकिन इस दौरान बल्लेबाजी से जुड़ी कई कमियां सामने आ गयीं।

ये भी पढ़ेंः Zimbabwe XI vs West Indies: ताश के पत्तों की तरह बिखरी जिम्बाब्वे, वेस्टइंडीज का पलड़ा भारी

भारत जब न्यूजीलैंड द्वारा दिये गये 99 रन के छोटे से लक्ष्य का पीछा करने उतरा तो सलामी बल्लेबाज शुभमन गिल सिर्फ 11 रन बनाकर पवेलियन लौट गये। काफी देर संघर्ष करने के बाद ईशान किशन ने भी 32 गेंद पर 19 रन बनाकर पवेलियन का रुख किया। दोनों ही सलामी बल्लेबाज अपने टी20 करियर में प्रारूप की आवश्यकताओं को पूरा करने में ज्यादातर अक्षम नज़र आये हैं। गिल ने पांच टी20 अंतरराष्ट्रीय मैचों में 15.2 की औसत और 128.81 की औसत से 76 रन बनाये हैं, जबकि किशन 26 मैचों में 26.08 की औसत और 123.25 की औसत से 652 रन बना सके हैं।

ये भी पढ़ेंः अनीश गिरी बने शतरंज के विम्बलडन कहे जाने वाले Tata Steel Masters के विजेता

भारत न्यूजीलैंड दौरा खत्म होने से पहले एक बार विस्फोटक सलामी बल्लेबाज पृथ्वी शॉ को मौका दे सकता है। घरेलू क्रिकेट और इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में अपने कारनामों के बावजूद शॉ को कभी भी टी20 अंतरराष्ट्रीय में अपने जौहर दिखाने का मौका नहीं मिला। उन्होंने अपने करियर का जो एकमात्र टी20 अंतरराष्ट्रीय खेला वहां भी उनकी बल्लेबाजी नहीं आयी। पृथ्वी शॉ जहां शुभमन गिल की जगह पारी की शुरुआत कर सकते हैं, वहीं विकेटकीपर ईशान के दस्ताने जितेश सिंह को सौंपे जा सकते हैं। घरेलू टी20 में 147.93 के स्ट्राइक रेट से रन बनाने वाले जितेश फिनिशर की भूमिका के लिये अच्छा विकल्प हो सकते हैं।

टीम प्रबंधन को दीपक हुड्डा को ऊपरी क्रम में जगह देने पर भी विचार करना चाहिये। हुड्डा की विशेषज्ञता मध्य ओवरों में स्पिनरों के खिलाफ आक्रामकता दिखाना है, लेकिन वर्तमान भारतीय एकादश में उन्हें छठे-सातवें नंबर पर बल्लेबाजी का मौका मिलता है। हुड्डा ने आयरलैंड के खिलाफ अपना एकमात्र टी20 अंतरराष्ट्रीय शतक भी तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए जड़ा था। अगर पांड्या की टीम तीसरे टी20 में गिल-किशन की जोड़ी को आराम देती है तो हुड्डा को ऊपरी क्रम में आज़माया जा सकता है। दूसरी ओर, भारत में ऐतिहासिक टी20 सीरीज जीतने से सिर्फ एक कदम दूर न्यूजीलैंड भी आत्मविश्वास से लबरेज़ होगा। मिचेल सैंटनर बतौर कप्तान बेहद रचनात्मक रहे हैं। यहां तक कि उन्होंने लखनऊ टी20 में लोकी फर्ग्यूसन से स्पिन गेंदबाजी करने के लिये कहा था ताकि पिच का भरपूर इस्तेमाल किया जा सके। कप्तान सैंटनर 12 में से 10 टी20 मुकाबले जीतकर अब तक अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सफल रहे हैं। वह भारत को उसी की सरजमीन पर हराकर अपने नाम के साथ एक दुर्लभ सफलता जोड़ना चाहेंगे।

अहमदाबाद का नरेंद्र मोदी स्टेडियम अब तक बल्लेबाजों के लिये मददगार साबित हुआ है। यहां खेले गये पिछले पांच में से तीन टी20 अंतरराष्ट्रीय मुकाबलों में दोनों टीमें 160 से ज्यादा रन बनाने में कामयाब रही हैं और ओस को ध्यान में रखते हुए कप्तान पांड्या टॉस जीतने पर पहले गेंदबाजी कर सकते हैं। अहमदाबाद का मौसम बुधवार को साफ रहने की उम्मीद है और सब कुछ सही रहने पर भारतीय टीम मुकाबला जीतकर सीरीज फतह करना चाहेगी।