आईएएफ वर्ल्ड अंडर-20 चैम्पियनशिप की महिलाओं की 400 मीटर स्पर्धा में स्वर्ण जीत कर इतिहास रचने वाली असम की हिमा दास की उपलब्धियों के लिए विदेशी कोच गैलिना बुखरीना को श्रेय देते हुए विदेशी कोच की मांग की गर्इ है। तो वहीं असम के पूर्व डिस्क्स थ्रोअर तायबन निशा ने टोक्यों में होने वाले ओलम्पिक में हिमा के लिए एक कोच आैर सहायक स्टाफ की मांग की है। बता दें कि हिमा ने राटिना स्टेडियम में खेले गए फाइनल में 51.46 सेकंड का समय निकालते हुए जीत हासिल की। इसी के साथ वह इस चैम्पियनशिप के जूनियर आैर सीनिसर में स्वर्ण जीतने वाली भारत की पहली महिला बन गई हैं।

दरअसल, आईएएफ वर्ल्ड अंडर-20 चैम्पियनशिप की महिलाओं की 400 मीटर स्पर्धा में स्प्रिंट स्टार हिमा के गोल्ड जीतने के बाद राष्ट्रपति कोविंद ने उन्हें बधार्इ देते हुए ट्विटर पर लिखा कि यह विश्व चैम्पियनशिप में भारत का पहला गोल्ड है। यह भारत आैर असम के लिए गर्व का पल है। साथ ही उन्होंने लिखा कि हिमा आेलंपिक पोडियम इंतजार कर रहा है! इस पर असम के पूर्व डिस्क्स थ्रोअर तायबन निशा ने कहा कि हां ओलंपिक पोडियम उनका लक्ष्य है। हम उम्मीद कर रहे हैं कि टोक्यो में ये लक्ष्य पूरा हाे जाएगा। लेकिन सरकार को भी इसमें अपनी भूमिका निभानी होगी। हिमा काे इस स्तर तक ले जाने के लिए सरकार को एक कोच आैर सहायक टीम को उनके लिए तैनात करना होगा। असम एथलीट एसोसिएशन के सचिव प्रदीप नुनीसा ने हिमा के इस कामयाबी के लिए विदेशी कोच गैलिना बुखरीना को श्रेय दिया है।इसके साथ ही अर्जुन पुरस्कार विजेता भोजेश्वर बरुआ ने भी हिमा के उपलब्धियों का बखान करते हुए कहा कि हिमा असाधारण प्रतिभा का एक उदाहरण हैंं। मेरी इच्छा है कि वे एेसी ही उपलब्धियों को प्राप्त करती रहे। इसके साथ उन्होंने कहा कि सरकार को एसोसिएटेड एजेंसियों को अब हिमा के करियर को और बढ़ाने के लिए  साथ देना चाहिए।आपको बता दें कि हिमा की इस उपलब्धी के लिए राष्ट्रपति के अलावा पीएम मोदी, असम के राज्यपाल जगदीश मुखी, असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोर्इ आैर अमिताभ बच्चन ने बधार्इ दी। इसके साथ ही असम एथलीट एसोसिएशन आैर असम आेलम्पिक एसोसिएशन ने हिमा के इस उपलब्धी के लिए उन्हें दो-दो लाख रुपए देने का एेलान किया है। असम एथलीट एसोसिएशन के अध्यक्ष रकीबुल हुसैन अौर सचिव नुनिसा ने शनिवार को हिमा के गांव का दौरा किया आैर उनके परिवार को दो लाख का चेक दिया।