ओडिशा के भुवनेश्वर में मेजबान भारत के खिलाफ एक और दो नवंबर को खेले जाने वाले बहुप्रतीक्षित एफआईएच ओलंपिक क्वालिफायर मुकाबले के लिए रूसी पुरूष हॉकी टीम रविवार को ओडिशा पहुंच गयी।


कलिंगा स्टेडियम में ओलंपिक क्वालिफायर मुकाबले खेले जाने हैं। रूसी टीम के कप्तान डेनिस शिपाचेव ने अपनी टीम के भारत पहुंचने पर खुशी जताई। टीम इससे पहले जून में एफआईएच सीरीज फाइनल्स के लिए भारत दौरे पर आयी थी।


शिपाचेव ने कहा, 'भारत वापिस आना काफी रोमांचक है। हमें पिछले दौरे में काफी मजा आया था और यहां के प्रशंसक भी काफी उत्साहित हैं। हालांकि जून में मौसम काफी गर्म था लेकिन उम्मीद करते हैं कि यहां मौसम इस बार बढिय़ा होगा और हम यहां की परिस्थितियों के अनुसार खुद को ढाल लेंगे।'


आखिरी बार जब भारत और रूस की टीमों का एफआईएच सीरीज फाइनल्स में एक दूसरे से सामना हुआ था तब मेजबान टीम से उसे 0-10 से हार झेलनी पड़ी थी। हालांकि रूसी टीम को इस बार यकीन है कि वह बेहतर प्रदर्शन करेंगे। कप्तान ने कहा, 'भारत बहुत अच्छी टीम है और हमसे रैंङ्क्षकग में भी काफी ऊपर है। लेकिन हम उनके खिलाफ अच्छा खेल दिखाने के लिये तैयार हैं हमने ओलंपिक क्वालिफिकेशन को ध्यान में रखते हुये अपनी तैयारियों उसी हिसाब से की है।'


रूस कलिंगा स्टेडियम में 1 और 2 नवंबर को विश्व की पांचवें नंबर की टीम भारत से मुकाबले में उतरेगी। इसी तारीख को भारतीय महिला टीम भी अमेरिका के खिलाफ क्वालीफायर खेलगी। अमेरिका की महिला हॉकी टीम गत 25 अक्टूबर को भारत पहुंच गयी थी। यह मुकाबला भी भुवनेश्वर के कङ्क्षलगा स्टेडियम में खेला जाएगा। अमेरिकी टीम की कप्तान कैथलीन शार्की ने कहा कि भारत में खेलना रोमांचक है। इस टीम में कोई भी खिलाड़ी पहले कभी भारत में नहीं खेली है जिसका हॉकी में समृद्ध इतिहास है।


उन्हें ओलंपिक क्वालीफायर्स का बेताबी से इन्तजार है। भारतीय टीम का आखिरी बार अमेरिका से मुकाबला 2018 के महिला विश्व कप में हुआ था जहां भारत ने 1-1 का ड्रा खेला था। ओलंपिक क्वालीफायर्स में दो मैच होंगे जिसमें अंकों के आधार पर फैसला होगा कि कौन सी टीम अगले साल टोक्यो ओलंपिक में खेलेगी। जीतने पर तीन अंक और ड्रा रहने पर एक अंक मिलेगा। यदि अंक बराबर रहते हैं तो फिर गोल औसत देखा जाएगा और यदि गोल भी बराबर रहते हैं तो शूट आउट का सहारा लिया जाएगा। यदि शूट आउट बराबर रहता है तो सडन डैथ से ओलम्पिक में जाने वाली टीम का फैसला होगा।