असम की 18 साल की हिमा दास रातों रात स्टार बन गई हैं। हिमा आईएएएफ विश्व अंडर 20 एथलेटिक्स चैंपियनशिप के महिला 400 मीटर फाइनल में खिताब के साथ विश्व स्तर पर स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला एथलीट बनीं। बता दें  कि रेस जीतने के बाद हिमा ने तिरंगा लेकर पूरे ग्रांउड का चक्कर लगाया। हालां‍कि हिमा ने इस जीत में अपने राज्य असम को भी हिस्सा बनाया।

हिमा ने असम संस्कृति का प्रतीक असमिया गमछा भी ओढ़ा हुआ था। हिमा की जीत से पूरे देश के साथ असम में भी खुशी की लहर है। ऐसे में हिमा ने भी असम को अपनी जीत के साथ जोड़ा। आपको बता दें कि असम की संस्कृति में ये गमछा काफी महत्वपूर्ण स्थान रखता है। हर पर्व त्योहार उल्लास के समय इसे ओढ़ा जाता है।पीएम मोदी भी जब असम दौरे पर गए थे तो उन्हें ये गमछा ओढ़ाया गया था। खास बात यह है कि इस गमछे को हाथों से महिलाओं द्वारा घरों में ही तैयार किया जाता है। बिहु के दौरान इस गमछे को असम में हर किसी के गले में देखा जा सकता है।

बता दें कि हिमा ने 51.46 सेकेंड के समय के साथ गोल्ड मेडल पर  कब्जा किया। वह हालांकि 51.13 सेकेंड के अपने निजी सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन से पीछे रहीं। इससे पहले हिमा अप्रैल में गोल्ड कोस्ट में हुए राष्ट्रमंडल खेलों की 400 मीटर स्पर्धा में तत्कालीन भारतीय अंडर 20 रिकॉर्ड 51.32 सेकेंड के समय के साथ छठे स्थान पर रही थीं।इसके बाद गुवाहाटी में हाल में राष्ट्रीय अंतर राज्य चैंपियनशिप में उन्होंने 51.13 सेकेंड के साथ अपने इस रिकॉर्ड में सुधार किया था।