विश्व चैम्पियनशिप में रजत पदक जीतने वाली सोनिया चहल (75 किग्रा) ने वियतनाम की डो न्हा युआन को 5-0 से हराते हुए बैंकॉक में शुरू हुई एशियाई मुक्केबाजी चैम्पियनशिप के पहले दिन शुक्रवार को क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई। उनके अलावा चार अन्य भारतीयों ने पहले दिन विजयी शुरुआत की।


माकरान कप में स्वर्ण जीतने वाले दीपक (49 किग्रा) ने वियतनाम के लोई बुई कोंग डान को 5-0 से हराते हुए अपना वर्चस्व दिखाया और प्री-क्वार्टर फाइनल की सीट सुरक्षित की। 64 किग्रा में ङ्क्षकग्स कप में कांस्य पदक जीतने वाले रोहित टोकस ने अपनी बेहतरीन डिफेंस की बदौलत ताइवान के चू इन लाई को 5-0 से शिकस्त दी और प्री-क्वार्टर फाइनल में पहुंच गए।


आशीष (69 किग्रा) ने भी शानदार अंदाज में अपना सफर शुरू किया और कैमरून के वीवाई सोफोर्स को 5-0 से हराते हुए अंतिम-16 दौर में जगह बना ली। इसी तरह एशियाई खेल कांस्य पदक विजेता सतीश कुमार (प्लस 91) ने ईरान के इमान रमजनपौरडेलावर को बेहतरीन खेल की बदौलत 5-0 से हराते हुए क्वार्टर फाइनल में जगह बना ली।


शनिवार को तीन बार के एशियाई चैम्पियनशिप पदक विजेता शिवा थापा अपना चौथा पदक जीतने का अभियान शुरू करेंगे और पहले दौर में उनके सामने होंगे कोरिया के किम वोनहो। कवींद्र सिंह बिष्ट (56 किग्रा) और आशीष कुमार (75 किग्रा) पहले राउंड में बाई मिलने के बाद दूसरे दौर में उतरेंगे। इसी तरह दीपक और रोहित भी पदक की दौड़ में खुद को बनाए रखना चाहेंगे।


महिलाओं के वर्ग में पदार्पण कर रहीं नीतू (48 किग्रा) इस प्रतिष्ठित आयोजन में अपनी छाप छोडऩे का प्रयास करेंगी। इसी तरह मनीषा (54 किग्रा) भी अपनी पहली हिस्सेदारी को यादगार बनाना चाहेंगी। महिला वेल्टरवेट में भारत की उम्मीद लोवलीना बोर्गोहेन पर होगी, जो वियतनाम की त्रान थी लिन का सामना करेंगी।


महिला एशियाई चैम्पियनशिप का आयोजन पहली बार पुरुष चैम्पियनशिप के साथ हो रहा है। बीते संस्करण में भारतीय महिलाओं ने सात पदक जीते थे, जिनमें एक स्वर्ण, एक रजत और पांच कांस्य थे। भारत ने एशियाई चैम्पियनशिप के लिए 20 सदस्यीय टीम भेजी है और इस साल उसे बीते संस्करण से अधिक पदक मिलने की उम्मीद है।