फीफा वर्ल्ड कप (FIFA World Cup) में रविवार कुल चार मैच खेले गए। रात में खेले गए मैच में क्रोएशिया और कनाडा की टीमों के बीच भिड़ंत हुई। क्रोएशिया और कनाडा के बीच खेले गए इस मैच में क्रोएशिया ने कनाडा को 4-1 के बड़े अंतर से हरा दिया। इस मैच में मिली हार के बाद कनाडा की टीम टूर्नामेंट से बाहर हो चुकी है। वहीं क्रोएशिया के लिए टूर्नामेंट में आगे जाने की उम्मीदे बड़ गई है। 

यह भी पढ़ें- मुख्यमंत्री शिंदे ने महाराष्ट्र में असम भवन के निर्माण का ऐलान किया

क्रोएशिया ने मजबूत वापसी करते हुए आंद्रेज क्रैमारिच के दो गोल की मदद से कनाडा को 4-1 से हराकर बाहर कर दिया। कनाडा की टीम 36 साल में पहली बार वर्ल्ड कप में खेल रही थी लेकिन कतर में दो मैचों के बाद ही टीम टूर्नामेंट से बाहर हो गयी। अलफोंसो डेविस ने मैच के दूसरे ही मिनट में कनाडा के लिए वर्ल्ड कप का पहला गोल दागा और अपनी टीम को बढ़त दिलवाई, पर शुरूआती मैच में मोरक्को से ड्रा मैच खेलने वाली क्रोएशिया ने मैच में वापसी करते हुए एक के बाद एक चार गोल दाग दिए। 

रूस में 2018 वर्ल्ड कप की रनर अप रही क्रोएशिया के लिए खलीफा इंटरनेशनल स्टेडियम में क्रैमारिच (36वें और 70वें मिनट) के अलावा मार्को लिवाजा (44वें मिनट) और लोवरो माएर (90+4वें मिनट) ने भी गोल किए। कप्तान लुका मौद्रिच टूर्नामेंट में अपने पहले गोल की तलाश में थे लेकिन सफल नहीं हुए। यह संभवत: उनका अंतिम वर्ल्ड कप है। क्रोएशिया के साथ ड्रा और बेल्जियम को 2-0 से हराकर उलटफेर करने वाली मोरक्को के ग्रुप एफ में चार अंक हैं। इस मैच के बाद क्रोएशिया के भी 4 अंक हो गए है। 

यह भी पढ़ें- असम के मुख्यमंत्री ने कहा, गुवाहाटी को बाढ़ मुक्त बनाने के लिए प्रतिबद्ध

वहीं उनकी टीम पॉइंट्स टेबल पर दूसरे स्थान पर है। बेल्जियम के तीन अंक हैं और उसके पास अब भी अगले दौर में पहुंचने का मौका है। कनाडा को पहले दो मैचों में कोई अंक नहीं मिला और गुरूवार को मोरक्को के खिलाफ मुकाबले में जीत भी उसे अगले दौर में नहीं पहुंचा पाएगी। क्रोएशिया का सामना बेल्जियम से होगा। कनाडा इससे पहले 1986 में वर्ल्ड कप में पहुंची थी और तब भी ग्रुप चरण में ही बाहर हो गयी थी।