पीठ के निचले हिस्से में चोट ने भारत की 400 मीटर महिला रिकॉर्ड धारक हिमा दास के 2020 और 2021 सीज़न को प्रभावित किया है। चोट ने दास को 2021 में 100 मीटर और 200 मीटर स्प्रिंट में जाने के लिए मजबूर किया। ये परेशानी 2022 में भी 400 मीटर दौड़ में उनकी अनुपस्थिति को लंबा खींच सकती है। हिमा ने 2021 सीज़न में शॉर्ट स्प्रिंट (100 मीटर और 200 मीटर) स्पर्धाओं में भाग लिया था। वह 2022 सीज़न में भी 100 मीटर और 200 मीटर दोनों पर ध्यान केंद्रित करना जारी रखे हुए हैं।

लेकिन उनके चाहने वालों के लिए खुशखबरी है कि कि वह जल्द ही ट्रैक पर पहले की तरह दिखने के लिए कड़ी प्रैक्टिस में जुटी हैं।हिमा दास ने अपने सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म Koo App पर एक पोस्ट में अपनी तैयारी का एक पोस्ट किया है। इस वीडियो में वह गोली की रफ्तार से भागती नज़र आ रही हैं।

हिमा के इस वीडियो से उनके चाहने वालों ने खुशी का इजहार करते हुए कई कमेंट किए हैं। 

आपको बता दें कि पीठ के निचले हिस्से का दर्द उन्हें 2019 से परेशान कर रहा था, जिसके कारण उन्होंने एशियाई एथलेटिक्स चैंपियनशिप की 400 मीटर स्पर्धा को बीच में ही छोड़ दिया था।

वह 2019 दोहा विश्व चैंपियनशिप में शानदार प्रदर्शन के बाद 2020 टोक्यो ओलंपिक में 4x400 मीटर मिश्रित रिले स्पर्धा में भारत का प्रतिनिधित्व करने वाली थीं। 

2018 में दास ने विश्व जूनियर चैंपियनशिप में 400 मीटर प्रतिस्पर्धा में स्वर्ण पदक जीतने के साथ भारतीय एथलेटिक्स परिदृश्य में कदम रखा था। उस वर्ष एशियाई खेलों में उन्होंने 400 मीटर महिला रिले में रजत और 4x400 मिक्स्ड रिले में स्वर्ण पदक जीता था।

2020 और 2021 में छोटी दौड़ में दौड़ने के बाद असमिया स्प्रिंटर को राष्ट्रीय 4x100 मीटर रिले टीम में भी शामिल किया गया था, लेकिन वह टोक्यो के लिए क्वालिफाई करने में विफल रहीं। फिलहाल वह केरल में राष्ट्रीय शिविर में भाग ले रही है और शॉर्ट स्प्रिंट दौड़ के लिए अपने कौशल को चमकाने का अभ्यास कर रही हैं।