पूर्व भारतीय कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन ने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) की टीम राइजिंग पुणे सुपरजाएंटस द्वारा महेंद्र सिंह धोनी को कप्तानी से हटाए जाने की कड़े शब्दों में आलोचना की है। 

आईपीएल के इस वर्ष 10वें संस्करण से पहले ही पुणे ने धोनी को अपनी टीम की कप्तानी से हटा दिया था। हालांकि टीम प्रबंधन ने कहा था कि यह फैसला धोनी से विचार विमर्श करके लिया गया है। 

इस कदम के पीछे पिछले सत्र में टीम के निराशाजनक प्रदर्शन को वजह माना जा रहा है। धोनी को हटाने के बाद आस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीवन स्मिथ को टीम का नेतृत्व सौंपा गया है। 

अजहरुद्दीन ने मीडिया से कहा, 'जिस तरीके से यह फैसला किया गया वह तीसरे दर्जे का और अपमानजनक था। धोनी भारतीय क्रिकेट का हीरा है। उन्होंने अपनी कप्तानी में पिछले आठ-नौ सालों में हर टूनार्मेंट जीता है।'

पूर्व भारतीय कप्तान ने कहा, 'फ्रेंचाइजी यह कह सकती है कि वह अपने पैसों से टीम चला रहे हैं, लेकिन क्या उन्हें धोनी को कप्तानी से हटाने से पहले उनका कद और रुतबा नहीं देखना चाहिए था। पूर्व क्रिकेटर होने के कारण मुझे इस पर गुस्सा आया और मैं इससे दुखी हूं।'

पुणे की टीम ने गत वर्ष आईपीएल टूर्नामेंट में पदार्पण किया था। लेकिन टीम का प्रदर्शन निराशाजानक रहा था और टीम ने 14 मैचों में से मात्र पांच में जीत दर्ज की थी। पूर्व कप्तान का मानना है कि इसका सारा दोष धोनी के ऊपर नहीं डालना चाहिए। अजहरूद्दीन ने कहा, 'जब टीम ही अच्छा प्रदर्शन नहीं करती है तो कप्तान क्या करेगा। यदि धोनी अच्छा और प्रेरणादायी कप्तान नहीं होता तो क्या वह दो आईपीएल खिताब जीत पाता।'

धोनी इससे पहले अपनी कप्तानी में आईपीएल की चेन्नई सुपरकिंग्स को दो बार खिताब दिला चुके हैं। यह टीम आईपीएल में भ्रष्टाचार के आरोपों के बाद दो वर्ष के लिए लीग से निलंबित है। इसके अलावा राजस्थान रायल्स पर भी दो वर्ष का निलंबन है।