भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने अपने विजयी रथ को जारी रखते हुए यहां हीरो एशियाई चैम्पियंस ट्रॉफी में खेले गए तीसरे मैच में भी जीत हासिल की। भारत ने रविवार देर रात खेले गए अपने तीसरे राउंड-रोबिन मैच में जापान को 9-0 से हराया। इस मैच में मंदीप सिंह ने अपनी हैट्रिक भी बनाई।


चौथे ही मिनट में मंदीप ने पहला गोल करते हुए अपनी हैट्रिक की शुरुआत की और भारतीय टीम का खाता खोला। गुरजंत सिंह ने आठवें मिनट में दूसरा गोल कर टीम को 2-0 की बढ़त दे दी।


हरमनप्रीत ने 17वें और उसके बाद 21वें मिनट में जापान के पाले में गोल दागे और भारत का स्कोर 4-0 कर दिया। प्रतिद्वंद्वी टीम को खाता खोलने का एक भी मौका न देते हुए आकाशदीप सिंह की ओर से 36वें मिनट में गोल के दम पर भारत ने पांचवां गोल हासिल किया।


दूसरे हाफ में सुमित ने 42वें मिनट में भारत के लिए छठा गोल दागा। 45वें मिनट में ललित उपाध्याय ने सातवां गोल किया। मंदीप ने 49वें और 57वें मिनट में अपनी हैट्रिक पूरी की और भारत को 9-0 से जीत दिलाई। भारतीय टीम अपना चौथा राउंड रोबिन मैच 23 अक्टूबर को मलेशिया के खिलाफ खेलेगा।


भारतीय टीम के लिये आकाशदीप सिंह ने 36वें और सुमित ने 42वें मिनट में एक एक गोल करते हुये स्कोरकार्ड पर अपना नाम दर्ज करवाया। इसी के साथ भारत ने चैंपियंस ट्रॉफी में अपनी लगातार तीसरी जीत भी दर्ज कर ली। भारत छह टीमों के टूर्नामेंट में सर्वाधिक नौ अंकों के साथ शीर्ष पर है जबकि मलेशिया दो मैचों में छह अंकों के साथ दूसरे नंबर पर है।


पाकिस्तान के दो मैचों में तीन अंक हैं जबकि जापान के तीन मैचों में तीन अंक हैं। दक्षिण कोरिया और ओमान दोनों अपने अपने मैच हार चुके हैं। भारतीय पुरूष टीम के मुख्य कोच हरेंद्र सिंह ने जापान के खिलाफ एकतरफा जीत को लेकर खुशी जताते हुये खिलाड़ियों की योजना को मैच में ठीक तरह से लागू करने पर प्रशंसा की।


उन्होंने कहा, 'हम जिस तरह से खेले वह अच्छा था। हमने योजना को लागू किया और जापान की टीम को हमपर हावी होने का मौका नहीं दिया।' जापान के कोच सीजफ्राइड आइकमैन ने कहा कि भारतीय टीम बहुत मजबूत थी। उन्होंने कहा, 'हमने अपनी तरफ से सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया लेकिन भारत बहुत मजबूत था। हमने अपने स्तर से भी नीचे का प्रदर्शन किया जबकि विपक्षी टीम की योजना, तेजी और प्रतिभा कमाल थी।'