इंग्लैंड में लगातार कोरोना वायरस की रफ्तार बढ़ रही है और उसकी टीम के 7 सदस्य कोरोना की चपेट में आ चुके हैं।  हालांकि इसके बावजूद बीसीसीआई ने इससे सबक नहीं लिया है और उसने टीम इंडिया के खिलाड़ियों की छुट्टियां बरकरार रखी हैं।  

बता दें इंग्लैंड के 3 खिलाड़ी और 4 सपोर्ट स्टाफ के सदस्य कोविड पॉजिटिव आए हैं जिसकी वजह से ईसीबी को पाकिस्तान के खिलाफ वनडे सीरीज के लिए पूरी टीम बदलनी पड़ी है। वहीं दूसरी ओर टीम इंडिया के खिलाफ 20 दिन के लिए बायो बबल से बाहर हैं।  कुछ खिलाड़ी भीड़भाड़ वाले इलाकों में भी जा रहे हैं जिससे उनके कोरोना पॉजिटिव होने का खतरा बना हुआ है।  अगर ऐसा होता है तो वो खिलाड़ी इंग्लैंड सीरीज से भी बाहर हो सकता है। 

बता दें भारतीय खिलाड़ी 14 जुलाई को लंदन में एकत्रित होंगे जहां से वे दो सप्ताह के  अभ्यास शिविर तथा ‘सलेक्ट काउंटी इलेवन’ के खिलाफ प्रथम श्रेणी मैच के लिये डरहम जाएंगे. भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने गोपनीयता की शर्त पर कहा, 'हम स्थिति से अवगत हैं. यदि मौजूदा स्वास्थ्य सुरक्षा दिशानिर्देशों में कोई परिवर्तन होता है तो ईसीबी (इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड) और स्थानीय स्वास्थ्य अधिकारी हमें उसे उपलब्ध कराएंगे और उसका कड़ाई से पालन किया जाएगा।  उन्होंने कहा, 'लेकिन अभी हमें कुछ नहीं बताया गया है।  खिलाड़ियों को अभी अपना अवकाश बीच में खत्म करने के लिये नहीं कहा गया है। 

अभी अधिकतर खिलाड़ी लंदन या उसके आसपास के इलाकों में हैं तथा अपने परिवारों के साथ समय बिता रहे हैं। कुछ ग्रामीण इलाकों में भी गये हैं।  ऋषभ पंत तो यूरो कप का मुकाबला देखने भी स्टेडियम में गए जो कि लोगों से खचाखच भरा हुआ था। बता दें खिलाड़ियों के लंदन में इकट्ठा होने के बाद उनका फिर से परीक्षण किया जा सकता है और उसके बाद ही उन्हें जैव सुरक्षित वातावरण में प्रवेश की अनुमति दी जा सकती है।  इंग्लैंड में डेल्टा-3 के मामलों में बढ़ोतरी देखी गयी है।  इंग्लैंड की मूल वनडे टीम के सभी खिलाड़ियों का पूर्ण टीकाकरण नहीं हुआ है।