पुणे। दक्षिण-पश्चिम मॉनसून 18 जून को पूरे पश्चिम मध्य बंगाल की खाड़ी, उत्तर पश्चिम बंगाल की खाड़ी के अधिकांश हिस्सों, पश्चिम बंगाल में गंगा के तराई वाले इलाके के कुछ हिस्सों, झारखंड और बिहार के कुछ हिस्सों में आगे बढ़ा है। अगले 2-3 दिन के दौरान मध्य प्रदेश के कुछ और हिस्सों, विदर्भ के शेष हिस्सों, आंध्र प्रदेश और उत्तर-पश्चिम बंगाल की खाड़ी, छत्तीसगढ़ और ओडिशा के कुछ और हिस्सों, पश्चिम बंगाल में गंगा के तराई वाले इलाके, झारखंड, बिहार और पूर्वोत्तर उत्तर प्रदेश के कुछ और हिस्सों में मानसून के आगे बढऩे के लिए परिस्थितियां अनुकूल हैं। 

यह भी पढ़ें : Assam flood: PM मोदी ने CM सरमा से की बात, हरसंभव मदद का दिया आश्वासन

मध्य महाराष्ट्र के कुछ स्थानों पर, केरल और माहे में अलग-अलग स्थानों पर दिन का तापमान सामान्य से 3.1 डिग्री सेल्सियस से 5.0 डिग्री सेल्सियस ऊपर रहा। तटीय कर्नाटक और उत्तरी आंतरिक कर्नाटक के अधिकांश स्थानों पर, मराठवाड़ा में कई जगहों पर, पूर्वी उत्तर प्रदेश, गुजरात और तेलंगाना में कुछ स्थानों पर, पश्चिम बंगाल में गंगा के तटवर्ती इलाके, ओडिशा, सौराष्ट्र, कच्छ, कोंकण और गोवा में अलग-अलग स्थानों पर तापमान सामान्य से 1.6 डिग्री सेल्सियस से 3.0 डिग्री सेल्सियस ऊपर रहा। 

पंजाब, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा में कई स्थानों पर, हिमाचल प्रदेश, अरुणाचल प्रदेश, असम और मेघालय में कुछ स्थानों पर, हरियाणा, चंडीगढ़ और दिल्ली में अलग-अलग स्थानों पर दिन का तापमान सामान्य से 5.1 डिग्री सेल्सियस नीचे रहा। पूर्वी मध्य प्रदेश में कई स्थानों पर, पश्चिम बंगाल के पर्वतीय क्षेत्र, सिक्किम, तमिलनाडु, पुड्डुचेरी और कराईकल में कुछ स्थानों पर, जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, गिलगिट, बाल्टिस्तान, मुजफ्फराबाद और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में अलग-अलग स्थानों पर तापमान सामान्य से 3.1 डिग्री सेल्सियस से 5.0 डिग्री सेल्सियस नीचे रहा। 

यह भी पढ़ें : असम में बाढ़ से भयावह हालात : 55 की मौत, करीब 3 हजार गांव डूबे, 19 लाख लोग प्रभावित

पश्चिमी राजस्थान और लक्षद्वीप के कुछ स्थानों पर, पश्चिम मध्य प्रदेश में अलग-अलग स्थानों पर,पश्चिम बंगाल में गंगा के तटवर्ती इलाके और रायलसीमा में तापामन सामान्य से 1.6 डिग्री सेल्सियस से 3.0 डिग्री सेल्सियस नीचे रहा। चुरू (पश्चिम राजस्थान) में अधिकतम तापमान 42.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, हिमाचल प्रदेश, पूर्वी राजस्थान, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, ओडिशा, झारखंड, पश्चिम बंगाल, सिक्किम, असम, मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, सौराष्ट्र, कच्छ, तटीय आंध्र प्रदेश, यनम, रायलसीमा, कर्नाटक, केरल, माहे, तमिलनाडु, पुड्डुचेरी और कराईकल में अलग-अलग स्थानों पर शुक्रवार को 08़ 30 बजे से शनिवार को 08़ 30 बजे के बीच आंधी तूफान के साथ बारिश हुयी। 

दक्षिण-पश्चिम मॉनसून रायलसीमा, तमिलनाडु में अति सक्रिय रहा जबकि नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, पश्चिम बंगाल के पर्वतीय क्षेत्र, सिक्किम और दक्षिण आंतरिक कर्नाटक में सक्रिय रहा जबकि यह मध्य महाराष्ट्र में कमजोर रहा। पिछले 24 घंटे के दौरान अरुणाचल प्रदेश, असम, मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, पश्चिम बंगाल के पर्वतीय क्षेत्र और सिक्किम में अधिकांश स्थानों पर, पश्चिम बंगाल में गंगा के तटवर्ती इलाके, झारखंड, हरियाणा, पंजाब, हिमाचल प्रदेश, छत्तीसगढ़ में कई स्थानों पर, तटीय कर्नाटक, केरल, लक्षद्वीप, ओडिशा, बिहार, पश्चिम उत्तर प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, पश्चिम राजस्थान, मध्य प्रदेश, कोंकण, गोवा, रायलसीमा, आंतरिक कर्नाटक और अंडमान-निकोबार द्वीप समूह में कुछ स्थानों पर, पूर्वी उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पूर्वी राजस्थान, विदर्भ, गुजरात, मध्य महाराष्ट्र, मराठवाड़ा, तटीय आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और तमिलनाडु में अलग-अलग स्थानों पर बारिश या गरज के साथ छींटे पड़े।