सिक्किम पूर्वोत्तर भारत में एक राज्य है, जिसकी सीमा भूटान, तिब्बत और नेपाल से लगती है। हिमालय के हिस्से के इस क्षेत्र में पर्यटन का विशेष महत्वपूर्ण स्थान है। यहां पर प्रतिवर्ष लाखों लोग सैर करने के लिए आते है। सिक्किम में भारत का सबसे ऊंचा पर्वत कंचनजंगा स्थित है, जिसकी उंचाई 8,586 मीटर है।

सिक्किम कंचनजंगा पर्वत के बिल्कुल नीचे स्थित बेहद ही खूबसूरत कस्बा है। यहां की पहाड़ी घाटियां, बर्फ से ढकी पर्वत चोटियां और प्रसिद्ध पर्यटन स्थल पर्यटकों को आकर्षित करते है। सिक्किम ग्लेशियरों, अल्पाइन घास के मैदानों और हजारों किस्म के वन्यजीवों का भी घर है।

ऐसे में आपको अपने जीवन में एक बार सिक्किम के पर्यटन स्थानों की सैर अवश्य करनी चाहिए।आप सिक्किम के निम्न खूबसूरत पर्यटन स्थानों की सैर कर सकते है।

त्सोमो झील

सिक्किम में त्सोमो झील पर्यटकों को सबसे ज्यादा आकर्षित करती है, जो कि करीब एक किलोमीटर लंबी, आकार में अंडाकार है और स्थानीय लोगों द्वारा इसे बहुत पवित्र माना जाता है। मई से अगस्त के बीच इस झील के क्षेत्र में कई दुर्लभ फूल दिखाई देते है।आमतौर पर यहां पर प्राइमूलस, आईरिस और नीले व पीले रंग के पोपियां फूलों का बेहद खूबसूरत नजरा देखने को मिलता है।इस झील में कई जलीय और पक्षिय प्रजातियां पाई जाती है जिसमें लाल पांडा इस झील का मुख्य आकर्षण है।त्सोमो झील अधिक उंचाई पर होने के कारण सर्दियों में जम जाती है।

नाथु ला

सिक्किम में स्थित नाथू ला, चीनी सीमा पर 1962 में बंद होने से पहले भारत और तिब्बत के बीच ओल्ड सिल्क रूट पर एक प्रमुख मार्ग था।अंतरराष्ट्रीय सीमा के इस क्षेत्र में कंटीले तार की बाड़ दिखाई होती है और आपको अजीब रोमांच मिलेगा दूसरी तरफ चीनी सैनिकों को देखकर।यहां पर केवल भारतीयों को ही यात्रा पर जाने की अनुमति है।

पेलिंग

सिक्किम पेलिंग तेजी से एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल बनता जा रहा है।समुद्र तल से 6800 फीट की ऊंचाई पर, यह दुनिया की तीसरी सबसे ऊंची चोटी माउंट का निकटतम दृश्य प्राप्त करने के लिए सबसे उत्कृष्ट स्थान है।यहां पर आप सांगा चाइलिंग मठ, पेमायांग्त्से मठ और खेचोपालरी झील के आकर्षक नजारों का भी आनंद ले सकते है।