सिक्किम का त्सोंगमो झील (Sikkim Tsongmo lake) अपनी उत्कृष्ट खूबसूरती के लिए जाना जाता है। 12313 फीट की ऊंचाई पर स्थित यह झील व आसपास का नजारा बेहद खूबसूरत है। यह सिक्किम (sikkim) के पूर्वी सिक्किम जिले (East Sikkim District) में स्थित है।

इस जल स्रोत के चारों ओर बसा वातावरण का सुरम्य दृश्य हर किसी को अपनी ओर आकर्षित करता है। लगभग 3,753 मीटर (12,313 फीट)  की ऊंचाई पर स्थित इस जल स्रोत में पानी पास ही स्थित हिमानी (ग्लेशियर) से आकर जमा होता है। ठण्ड के मौसम में जहां इसका पानी पूरी तरह से बर्फ के रूप में जम जाता है वहीं गर्मी के मौसम में यह खिले हुए फूलों से घिरा होता है। यह झील कई प्रवासी पक्षियों का भी वास स्थल है। चलिए आज हम चलते हैं सिक्किम के इसी खूबसूरती की झलक को देखने।

झील की सतह अलग-अलग मौसम में अलग-अलग रंगों को दर्शाती है। इसलिए सिक्किम (SIKKIM) के मूल निवासियों के तौर पर यह एक पवित्र झील के रूप में माना जाता है। त्सोंगमो झील को गुरु पूर्णिमा (Guru Purnima) के शुभ उत्सव के लिए एक पवित्र स्थल माना जाता है। लोगों का मानना है कि इस झील का पानी औषधीय गुणों से भरा-पूरा है।

झील के चारों ओर स्थित अल्पाइन जंगल कई अलग अलग प्रजाति के पक्षियों का वास स्थल हैं। आप झील के पास ही याक जिसे गंवाई भाषा में सुरागाय कहते हैं, की सवारी का आनंद भी ले सकते हैं। यह आपका अपना एक अलग ही तरह का खास अनुभव होगा। इन सारी विशेषताओं के साथ यह झील एक दिलचस्प जगह का निर्माण करता है।

आप हर बार जब भी अलग-अलग मौसम में इस झील की यात्रा पर जाएंगे,  झील का रंग बदला हुआ पाएंगे। इस झील की खास विशेषता यह है कि भारतीय डाक सेवा (Indian postal service) ने वर्ष 2006 में इस झील को समर्पित एक टिकट जारी किया था। आमतौर पर आप त्सोंगमो झील की यात्रा, नाथुला पास (Nathula pass) की यात्रा के दौरान भी कर सकते हैं। यह झील गंगटोक-नाथुला हाईवे पर ही, गंगटोक से लगभग 40 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।