सिक्किम (sikkim) में बुधवार की आधी रात को एक हिमालयी काला भालू (Himalayan black bear) राजभवन (Raj Bhawan) में घुस आया। रात भर यह भालू राजभवन में ही घूमता रहा। काफी मशक्कत के बाद आखिरकार गुरुवार को दिन में करीब 12 बजे इस काला भालू को काबू किया जा सका। अधिकारियों ने यह जानकारी दी है।

अधिकारियों ने बताया है कि गंगटोक में स्थित राज भवन में एक हिमालयी काला भालू (Himalayan black bear) घुस गया, जिसे कई घंटे चले अभियान के बाद निकाला जा सका। उन्होंने बताया कि भालू को पहली बार राज भवन के कर्मचारियों ने आधी रात को देखा। इसके बाद वन विभाग को इसकी सूचना दी गयी।

अधिकारियों ने कहा कि भालू, परिसर के कर्मचारी क्वार्टर में कुछ चिकन चट कर गया, जिससे लोगों में और भय व्याप्त हो गया। वन अधिकारी पूरी रात परिसर में गश्त लगाते रहे और सुबह होते ही उसे पकड़ने का अभियान चलाया गया। दोपहर 12 बजे रीछ को बेहोश कर पकड़ लिया गया।

डिवीजनल वन अधिकारी डेचेन लाचुंग्पा ने कहा, ‘भालू एक पुलिया के पीछे छिपा था। पहली बार उसे बेहोशी वाली गोली नहीं लगी, तो हमें दूसरी गोली (ट्रैंक्विलाइजर) चलानी पड़ी।’ अधिकारियों ने कहा कि भालू को पांगलखा वन्यजीव अभयारण्य में छोड़ दिया गया। उन्होंने बताया कि हिमालयी काला भालू (Himalayan black bear) एक विलुप्तप्राय प्रजाति है।

उल्लेखनीय है कि 16 मई को सिक्किम (Sikkim) आधिकारिक रूप से भारत का 22वां राज्य बना था। यहां एक नेशनल पार्क, 7 वाइल्डलाइफ सैंक्चुअरी और एक कंजर्वेशन रिजर्व हैं। सिक्किम में रेड पांडा, हिमालयन बर्ड और एशियाटिक ब्लैक बीयर जैसे विशिष्ट जीव-जंतु पाये जाते हैं।