सिक्किम के गंगटोक में ट्रैकिंग अभियान के दौरान रास्ता भटकने से लापता हुए छह युवकों का आखिरकार पता लगाने के बाद उन्हें सुरक्षित घर पहुंचा दिया गया। आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक ट्रेकिंग पर जाने वाला समूह 15 मई को डैफी भीर के लिए रवाना हुआ था। जब एक सप्ताह बाद वे लौट कर नहीं आये तब उनके अभिभावकों ने पुलिस और वन विभाग अधिकारियों को इसकी जानकारी दी।

ट्रेकिंग में जाने वाले सभी पश्चिम सिक्किम के उत्तारे, डेंटम इलाके के रहने वाले हैं। एक युवक की मां ने कहा, हमारा बेटा संदीप गौतम (26) अन्य पांच लोगों के साथ 15 मई को ट्रैकिंग के लिए रवाना हुआ था। बाद में 22 मई में उसका फोन आया कि वे रास्ता भटक गये है और बहुत भूखे हैं। उन्होंने अपनी सारी खाद्य सामग्री खा ली है। हमने पुलिस और वनकर्मियों को इसके बारे में सूचित किया। उन्होंने तलाश अभियान शुरू किया। अंतत: रविवार लगभग नौ बजे रात उनके लड़ने के साथ अन्य लोगों को ढूंढ लिया गया। 

संदीप के पिता रोहित गौतम (जो एक सरकारी स्कूल में शिक्षक हैं) ने कहा कि बच्चे युक्सम के पास लेथांग बस्ती के पहुंचे। वहां मौजूद पुलिस और वनकर्मियों ने उन्हें देखा और उन्हें घर पहुंचने में मदद की।