सेक्टर-15 निवासी सीए (चार्टर्ड अकाउंटेंट) को पिस्टल के साथ वीडियो भेजकर 30 नवंबर को रंगदारी मांगने का आरोपित क्राइम ब्रांच सेक्टर-48 पुलिस ने दबोचा है। इसी आरोपित ने अगले दिन सेक्टर-7 निवासी इवेंट मैनेजर को दिल्ली का कुख्यात गैंगस्टर नीरज बवाना बनकर काल की थी। उसे भी पिस्टल के साथ वीडियो भेजकर रंगदारी मांगी थी। 

आरोपित का नाम अभिमन्यु उर्फ अभि है, वह पर्वतीय कालोनी का रहने वाला है। करीब एक साल पहले आरोपित एक होटल में काम करता था। उसने कासना नोएडा निवासी व्यक्ति को काल करके रंगदारी मांग ली थी। वहां पुलिस ने उसे दबोच लिया और जेल भेज दिया। दो महीने पहले ही आरोपित जमानत पर जेल से छूटा। बाहर आते ही उसने फिर खुराफात शुरू कर दी। पहले उसने अपनी चचेरी बहन से महंगा मोबाइल छीना। चचेरी बहन ने आरोपित के खिलाफ सारन थाने में मुकदमा दर्ज करा दिया। करीब 15 दिन पहले आरोपित सिक्किम अपनी गर्लफ्रेंड से मिलने चला गया। 

आरोपित ने करीब चार साल पहले सेक्टर-15 निवासी सीए के पास कार चालक की नौकरी की थी। ऐसे में उसे मालूम था कि सीए के पास रुपया है। सीए का फोन नंबर भी आरोपित के पास तभी से था। आरोपित को ऐसा लगा कि सिक्किम में बैठकर काल करने से पुलिस उस तक नहीं पहुंच पाएगी। इसके अलावा सेक्टर-7 निवासी इवेंट मैनेजर के घर आरोपित के पिता का आना-जाना था। आरोपित को पता था कि इवेंट मैनेजर का अपने पिता से मनमुटाव चल रहा है। इसलिए उसे भी आरोपित ने धमकी दी। 

आरोपित की योजना फरीदाबाद आकर सीए के सामने गोली चलाने की थी, ताकि दहशत में आकर वह रुपये दे दे। इसके बाद इवेंट मैनेजर भी रुपये दे देगा। इसलिए वह पिस्टल लेकर फरीदाबाद पहुंचा था। क्राइम ब्रांच सेक्टर-48 प्रभारी राकेश कुमार सिक्किम से आरोपित के ऊपर नजर रखे हुए थे। जैसे ही वह फरीदाबाद पहुंचा, क्राइम ब्रांच ने उसे दबोच लिया। आरोपित से पिस्टल, दो कारतूस और मोबाइल बरामद किया है।