सिक्किम के पत्रकारों को फ्रंटलाइन कोविड-19 वारियर्स की मान्यता दिलाने की माग उठी। शनिवार को जर्नलिस्ट यूनियन ऑफ सिक्किम (जेयूएस) ने राज्य सरकार समक्ष उक्त माग रखी है। राजधानी गंगटोक स्थित जेयूएस के कार्यालय में यूनियन के अध्यक्ष भीम रावत के अगुवाई में एक आपातकालीन बैठक आयोजित कियागया। इस बैठक में पत्रकारों को फ्रंटलाइन कोविड-19 वारियर्स की मान्यता दिलाने की माग को लेकर प्रस्ताव पारित किया गया। बैठक में प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक और पंजीकृत डिजीटल मीडिया के मीडिया कर्मी उपस्थित थे।

इस अवसर पर विशेष कोरोना महामारी के समय पत्रकारों को समाचार संकलन में हो रही समस्याओं को लेकर चर्चा की गई। बैठक में चर्चा की गई कि पत्रकार अपने तथा अपने परिवार की जान को खतरे में रखकर समाचार संप्रेषण के लिए काम कर रहे है। इस विषय को ध्यान में रखकर सरकार द्वारा पत्रकारों को भी फ्रंटलाइन कोविड-19 वारियर्स की मान्यता प्रदान की जाए, यह जेयूएस अड़ान है। 

इस अवसर पर अध्यक्ष भीम रावत ने कहा कि इस संबंध में कुछ समय पहले ही राज्य के मुख्यमंत्री को आधिकारिक रूप में पत्राचार भी किया था। देश के विभिन्न राज्यों के राज्य सरकार ने अपने राज्य के पत्रकारों को फ्रंटलाइन कोविड-19 वारियर्स घोषित किया है। लेकिन सिक्किम सरकार ने अब तक इस विषय में कुछ पहल नहीं किया है। उनका कहना है कि सिक्किम में अब तक 12 से अधिक पत्रकार कोरोना संक्रमित हो चुके है। यदि पत्रकारों को फ्रंटलाइन कोविड-19 वारियर्स की मान्यता दी गई तो संक्रमित पत्रकारों को भी विभिन्न सुविधाएं मिलती।