राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने सिक्किम की सांस्कृतिक परंपराओं में परिलक्षित विविधता में एकता की सराहना की और राज्य की उच्च शिक्षा में लड़कों की तुलना में लड़कियों के उच्च नामांकन पर खुशी व्यक्त की। मुर्मू राज्य सरकार द्वारा उनके सम्मान में आयोजित एक नागरिक स्वागत समारोह में बोल रही थी। 

ये भी पढ़ेंः आदिवासी नृत्य महोत्सव में सिक्किम के कलाकारों ने बांधा समा, जीत लिया सभी का दिल


उन्होंने कहा कि सिक्किम की एक समृद्ध सांस्कृतिक विरासत है, जो विभिन्न समुदायों की संस्कृतियों को दर्शाती है। सिक्किम देश के अग्रणी राज्यों में से एक रहा है, जिसकी साक्षरता दर अस्सी प्रतिशत है और यह उच्च शिक्षा में नामांकन प्रतिशत के मामले में देश का पहला राज्य है। राष्ट्रपति ने सिक्किम की प्राकृतिक सुंदरता, वनस्पतियों, जीवों, झीलों, पहाड़ों और दो मुख्य नदियों तीस्ता और रंगित के लिए सराहना की। उन्होंने नगण्य प्लास्टिक कचरे, स्वच्छता और पहला पूर्ण जैविक राज्य होने के लिए प्रशंसा की और बिजली क्षेत्र, साहित्य और खेल में राज्य की उपलब्धियों का भी जिक्र किया। 

ये भी पढ़ेंः सिक्किम PSC में निकली भर्ती, ऑनलाइन करें आवेदन


उन्होंने मनन केंद्र से वर्चुअल माध्यम से रंगपो में 56 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित 1100 मीटर लंबे अटल सेतु और 29 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित राष्ट्रीय राजमार्ग-10 पर एक सुरंग का उद्घाटन किया और कई परियोजनाओं की नींव भी रखी। इससे पहले राष्ट्रपति मुर्मू को राज्य के राज्यपाल गंगा प्रसाद और मुख्यमंत्री पीएस तमांग ने सम्मानित किया और उन्हें सिक्किमी पोशाक का एक सेट भेंट किया।