भारत और चीन के तनाव के बीच भारतीय सेना को और अधिक सक्षम बनाया जा रहा है। इस कड़ी में चीन के साथ सीमा पर तैनात अपने सैनिकों की क्षमताओं को बढ़ाते हुए भारतीय सेना ने उत्तरी सिक्किम क्षेत्र में तैनात सैनिकों को नवीनतम असाल्ट राइफलें (assault rifles) दी हैं। साथ ही आल टेरेन व्हीकल, ATV (सभी क्षेत्रों में चल सकने वाली बख्तरबंद गाड़ियां) भी शामिल हैं

सेना का कहना है कि सिक्किम बार्डर पर हालिया समय में चीनी सैनिकों ने हरकतें बढ़ाई हैं। इसी को लेकर भारतीय सेना का उद्देश्य अपनी क्षमता बढ़ाना और सैनिकों को सक्षम बनाना है। विशेष रूप से कठिन और चुनौतीपूर्ण इलाकों में तैनात सैनिकों को अपने परिचालन कार्यों को आसानी से करने में सक्षम बनाना है। सेना ने कहा कि भारतीय सेना ने पिछले कुछ वर्षों में अत्याधुनिक हथियार प्लेटफार्म और आधुनिक उपकरण शामिल किए हैं।

अपनी तीव्र क्षमता वृद्धि अभियान का उल्लेख करते हुए भारतीय सेना ने कहा कि ऊंचाई वाले क्षेत्रों में तैनात सैनिकों के लिए एटीवी और 7.62 मिमी सिग सायर शामिल किए गए हैं।

मुगुथांग सब सेक्टर में भारतीय सेना 15 हजार से अधिक फीट की ऊंचाई पर है तैनात  

उत्तरी सिक्किम के मुगुथांग सब सेक्टर में 15,500 फीट से अधिक की ऊंचाई पर तैनात सैनिकों को उस क्षेत्र में काम करते हुए देखा जा सकता है, जो एक अति ऊंचाई वाला क्षेत्र है। जिसमें एटीवी और 7.62 मिमी सिग सायर हैं। इस पर भारतीय सेना ने जोर देते हुए कहा कि भविष्य के साथ वह आगे बढ़ रही है और राष्ट्र की क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता की रक्षा के लिए हमेशा तैयार है।

गौरतलब है कि भारत और चीन के बीच एलएसी में तनाव बना हुआ है। दोनों देशों के बीच कई दौर की वार्ता हो चुकी है।