एक ओर जहां देश खतरनाक महामारी 'कोरोना वायरस' के दंश से गुजर रहा है वहीं इस बीच लगातार मौत की खबरें सामने आ रही हैं, बता दें कि अब मध्यप्रदेश के लिए एक दु:खद खबर सामने आई है, मिली जानकारी के मुताबिक रतलाम के ग्राम गुणावद निवासी कन्हैयालाल जाट शनिवार शाम सिक्किम में शहीद हो गए।

जानकारी के मुताबिक भारतीय सेना में पदस्थ रतलाम के गुणावद गांव के सपूत कन्हैया लाल जाट ड्यूटी के दौरान हुए हादसे में शहीद हो गए है, लांसनायक कन्हैया लाल जाट भारतीय सेना की सीएमपी यूनिट में सिक्किम में पदस्थ थे, जहां शनिवार शाम ड्यूटी के दौरान वाहन की सफाई करते वक्त हुए हादसे में उनकी मृत्यु हो गई।

बता दें कि रतलाम के गुणावद गांव के कन्हैया लाल जाट का भारतीय सेना में वर्ष 2008 में चयन हुआ था, वर्ष 2013 में उनकी शादी उज्जैन जिले के इंगोरिया में हुई थी, शहीद कन्हैया लाल की दो बेटियां हैं, शनिवार सुबह ही अपने घर वालों को कन्हैया ने जून में छुट्टी पर घर आने की खुशखबरी सुनाई थी, जिसके बाद शाम को जवान की मौत हो गई, बता दें कि जून में छुट्टी पर आने वाला उनका वीर सपूत तिरंगे में लिपट कर अपने गांव लौट रहा है।

बता दें कि सेना जवान की शहीद होने की खबर जब रतलाम के ग्राम गुणावद पहुंची तो परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल हो गया। मिली जानकारी के मुताबिक शहीद कन्हैयालाल का पार्थिव शरीर रविवार शाम इंदौर पहुंचेगा, जहां से उनके गृह ग्राम गुणावद में सैन्य सम्मान के साथ उन्हें अंतिम विदाई दी जाएगी।

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर कहा कि भारतीय सेना की सीएमपी यूनिट में सिक्किम में पदस्थ रतलाम के ग्राम गुणावद निवासी लांसनायक कन्हैयालाल जाट के एक हादसे के दौरान शहीद होने की दुःखद सूचना मिली है, ईश्वर से प्रार्थना करता हूँ कि वे दिवंगत आत्मा को शांति दें और उनके परिजनों को इस गहन दुःख को सहने की क्षमता दें।